Home » Education News » Human Resource Development, HRD ministry has notified that Ph.D will be mandatory for the recruitment of assistant professors in university
 

नेट धारकों को मोदी सरकार का झटका, युनिवर्सिटी में प्रोफेसर बनने के लिए पीएचडी अनिवार्य

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 June 2018, 13:18 IST
hrd ugc

मानव संसाधन विकास (HRD) मंत्रालय ने नोटिफिकेशन जारी कर यह दिशा-निर्देश दिया है कि भारतीय विश्वविद्यालय / यूनिवर्सिटी में सहायक प्रोफेसर (Assistant professors) की सीधी भर्ती के लिए PHD अनिवार्य होगा.

इस संबंध में यूजीसी (University grant commission) का ये रेग्युलेशन जुलाई 2021 से प्रभावी हो जायेगा. एचआरडी मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि कॉलेजों में सहायक प्रोफेसर के प्रमोशन के लिए भी यही नियम लागू किया जाएगा.

गौरतलब है कि वर्तमान में, जो पीएचडी डिग्री रखते हैं या जिन्होंने मास्टर डिग्री के साथ यूजीसी की राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (NET) क्वालीफाई की हो, वे यूनिवर्सिटी में सहायक प्रोफेसर पद पर आवेदन करने के योग्य होते हैं.

1 जुलाई, 2021 से विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर के पद के लिए प्रत्यक्ष भर्ती के लिए पीएचडी डिग्री की अनिवार्य आवश्यकता होगी. हालांकि बयान में कहा गया है कि कॉलेजों में सहायक प्रोफेसर के पद पर प्रत्यक्ष भर्ती के लिए NET या पीएचडी के साथ पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री की न्यूनतम योग्यता के नियम जारी रहेंगे.

यूजीसी की इस गाइड लाइन में कहा गया है कि विश्वविद्यालयों / कॉलेजों / उच्च शिक्षा संस्थानों में नए नियुक्त सहायक प्रोफेसरों के लिए एक महीने का इंडक्शन प्रोग्राम जरूरी है.

ये भी पढ़ें -यहां फ्री में कराई जा रही है IAS/PCS की कोचिंग, आप भी कर सकते हैं अप्लाई

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) के नए नियमों की घोषणा करते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि Academic Performance Indicator (API) का प्रावधान कॉलेज शिक्षकों के लिए अनिवार्य कर दिया गया था, ताकि टीचर छात्रों को पढ़ाने पर अपना ध्यान केंद्रित कर सकें.

जावड़ेकर ने कहा, "अब कॉलेज के शिक्षकों को अनिवार्य रूप से अनुसंधान (Research) करना पड़ेगा और उन्हें सुनिश्चित करना होगा कि स्नातक छात्रों को बेहतर शिक्षा मुहैया कराया जा सके. नए नियमों में शीर्ष 500 वैश्विक रैंकिंग में विश्वविद्यालय / संस्थान से पीएचडी डिग्री धारकों के लिए विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में सहायक प्रोफेसरों की भर्ती के लिए एक विशेष प्रावधान है.

First published: 14 June 2018, 13:18 IST
 
अगली कहानी