Home » Education News » JEE Mains answer keys 2018: The answer keys for the Joint Entrance Examination Mains (JEE) 2018 release by the CBSE
 

JEE Mains answer keys 2018: जेईई मेन की ‘आंसर की’ CBSE ने की जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 April 2018, 16:51 IST

इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (JEE Mains 2018) मेन की ‘आंसर की’ जारी कर दी गई है. स्टूडेंट्स आंसर-की विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट के माध्यम से देख सकते हैं और अपने उत्तर का मिलान कर सकते हैं. छात्र अपने रिजल्ट का आकलन भी इस आंसर-की से कर सकते हैं और उन्हें अपने परीक्षा परिणाम का पूर्वानुमान भी हो सकता है कि उन्होंने कितने प्रश्नों के सही उत्तर दिए.

स्टूडेंट्स अगर इस आंसर-की में किसी प्रश्न के उत्तर से संतुष्ट नहीं होंगे तो वे आपत्ति दर्ज करा सकते हैं. आपत्ति के लिए प्रति प्रश्न निर्धारित राशि का भुगतान करना होगा. अगर आपत्ति सही निकली तो पैसा वापस मिल जाएगा जबकि अभ्यर्थी का दावा गलत निकला तो पैसा वापस नहीं किया जाएगा.

देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए यह परीक्षा आयोजित की जाती है.पूरे देश के 112 शहरों में इंजीनियरिंग प्रोग्राम में प्रवेश के लिए 8 अप्रैल को जेईई मेन की ऑफलाइन परीक्षा आयोजित की गई थी, जबकि ऑनलाइन परीक्षा 15 और 16 अप्रैल को आयोजित की गई थी. लगभग 10.43 लाख उम्मीदवारों ने इस परीक्षा के लिए पंजीकरण किया था. इस एंट्रेंस एग्जामिनेशन से शीर्ष 2.24 लाख अभ्यर्थियों का चयन आईआईटी में एडमिशन की प्रवेश परीक्षा जेईई एडवांस के लिए होगा.

ये भी पढ़ें - HP Board Result 2018: हिमाचल प्रदेश बोर्ड ने जारी किया 12 वीं का रिजल्ट, ऐस करें चेक

जेईई परीक्षा दो चरणों में आयोजित की जाती है. जेईई मुख्य (JEE Mains), जो कि केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) के द्वारा आयोजित की जाती है और जेईई एडवांस्ड (JEE Advanced), जो कि हर साल विभिन्न आईआईटी द्वारा आयोजित की जाती है.

JEE Mains का पेपर क्लियर करने के बाद उम्मीदवार JEE Advanced के एग्जाम में सम्मिलित होते हैं. उनके द्वारा प्राप्त मार्क्स के आधार पर देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में बैचलर ऑफ टैक्नोलॉजी (B.Tech), बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (BE ) और बैचलर ऑफ आर्किटेक्चर (BArch) कोर्सेस में एडमिशन मिलता है.

विशेषज्ञों के मुताबिक, JEE Mains 2018 के लिए कट-ऑफ इस साल 95 से 105 के बीच होने की उम्मीद है. इस साल 8 अप्रैल को आयोजित परीक्षा में प्रश्नों का लेवल पिछले दो सालों के समान ही कठिन स्तर का था. विशेषज्ञों के मुताबिक, फिजिक्स और मैथ के पेपर सबसे कठिन थे.

आंसर-की विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट jeemain.nic.in पर लॉग इन कर देखी जा सकती है.

First published: 24 April 2018, 16:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी