Home » Education News » Teachers Day 2018 : Uttarakhand Teacher Dhan Dingh Ghariya Spent His Salary On Poor Students Education
 

Teachers Day 2018: इस टीचर ने अपनी पूरी जिंदगी गरीब बच्चों के नाम कर दी है

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 September 2018, 15:29 IST

दुनिया में बहुत कम लोग ही ऐसे होते हैं जो दूसरों के लिए जीते हैं और अपना सबकुछ दूसरों की भलाई में लगा देते हैं. उत्तराखंड में भी एक ऐसा शिक्षक है जो दूसरों के लिए जीता है. इस शिक्षक का नाम है धन सिंह घरिया. दर धन सिंह घरिया दूसरों के लिए जीन का सबसे अच्छा उदाहरण पेश करते हैं.

दरअसल, धन सिंह घरिया नाम का ये टीचर स्कूल में बच्चों को पढ़ाते तो हैं ही उसके अलावा वो गरीब छात्र-छात्राओं की मदद के लिए हमेशा आगे रहते हैं. धन सिंह अपनी 13 साल की सेवा में ऐसे 150 छात्रों की पढ़ाई का खर्चा उठा चुके हैं. जिनका परिवार उन्हें पढ़ाने में समर्थ नहीं था.

धन सिंह अपना वेतन गरीब बच्चों की पढ़ाई पर खर्च करते हैं. धन सिंह की नेकियों की फेहरिस्त बहुत लंबी है. उन्होंने गोदली स्थित गवरमेंट इंटर कॉलेज परिसर में एक मिश्रित वन तैयार किया है. इस वन में करीब सौ प्रजाति के पौधे हैं. वो हर रोज इन पोधों की देखभाल करते हैं.

बता दें कि टीचर धन सिंह घरिया गोपेश्वर के पास सेंटुणा गांव में भोटिया जनजाति परिवार से आते हैं. साल 2005 में रुद्रप्रयाग के प्राथमिक विद्यालय किमाणा में उनकी नियुक्ति हुई थी. उसके बाद उनकी नियुक्ति गोदली के जीआईसी विद्यालय में हो गई. इस दुर्गम इलाके में अपनी सेवाएं देते हुए धन सिंह को 11 साल बीत चुके हैं. वो राजनीति विज्ञान विषय में प्रवक्ता हैं.

धन सिंह अपने विद्यालय में पढ़ाई के साथ-साथ इलाके के गरीब छात्र-छात्राओं को भी पढ़ाते हैं. और उनकी पढ़ाई का खर्चा खुद उठाते हैं. बता दें कि साल 2013 की केदारनाथ आपदा में एक बच्ची के पिता की मौत हो गई थी. उसके एक महीने बाद बच्ची की मां भी चल बसीं तो धन सिंह ने बच्ची की पढ़ाई का खर्चा उठाना शुरु कर दिया.

अब अंजलि नाम की ये बच्ची गोदली के जीआईसी में बारहवीं क्लास की छात्रा है. धन सिंह का कहना है कि वो बचपन से ही असहाय बच्चों के उत्थान के बारे में सोचा करते थे. अब जब उन्हें इसका मौका मिला तो ये काम कर उन्हें सुकून मिलता है.

ये भी पढ़ें- Teachers Day 2018: इस मुस्लिम टीचर के मुरीद हुए पीएम मोदी, ये है खास वजह

First published: 5 September 2018, 15:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी