Home » Education News » There is tremendous potential for building a career in modelling but young people need right guidance, Earn fame along with millions rupees
 

मॉडलिंग में करियर बनाके कमा सकते हैं लाखों, बस करना होगा ये काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 June 2018, 14:42 IST
model

आज के आधुनिक युग में मॉडलिंग सेक्टर में करियर बनाने की चाहत लाखों युवाओं की होती है. मॉडलिंग में करियर बनाने की अपार संभावनाएं मौजूद हैं लेकिन युवाओं को लिए सही गाइडेन्स की जरुरत होती है. मॉडलिंग के क्षेत्र से ही प्रतिभाशाली कैंडिडेट्स मिस इंडिया, मिस वर्ल्ड और मिस यूनिवर्स और अन्य वर्ल्ड फेम कॉन्टेस्ट में हिस्सा लेते हैं और शोहरत के साथ-साथ करोड़ों की कमाई करते हैं.

तमिलनाडु की मॉडल अनुकृति वास को 'फेमिना मिस इंडिया 2018' चुना गया है. आज मॉडलिंग की दुनिया काफी बदल चुकी है, इसमें नेम और फेम के साथ काफी पैसा भी है. यही वजह है कि आज इस फील्ड में काफी युवा अपना करियर तलाश रहे हैं और सफल भी हो रहे हैं. अगर आपको मॉडलिंग की दुनिया में करियर बनाना है तो इसके लिए कुछ बातें जाननी जरुरी हैं.

ये भी पढ़ें - खुशखबरी: पतंजलि में 50 हजार पदों पर निकली वैकेंसी, 12वीं पास ऐसे करें आवेदन

योग्यता

मॉडलिंग सेक्टर में आने के लिए ऐसे तो किसी शैक्षणिक योग्यता का होना जरूरी नहीं है. फीमेल के लिए इस फील्‍ड में लंबाई 5 फुट 7 इंच और लड़कों के लिए 5 फुट 10 इंच होना जरूरी है. अगर आपने किसी मॉडलिंग इंस्टीट्यूट से ट्रेनिंग ले रखी है तो यह आपके लिए फायदेमंद हो सकता है. 12वीं के बाद आप सीधे इस फील्ड में एडमिशन ले सकते हैं. मॉडलिंग करने का मतलब सिर्फ सुंदर दिखना नहीं होता, इसके लिए आपको हर क्षेत्र की पर्याप्त जानकारी भी होनी चाहिए. प्रेजेन्स ऑफ माइंड’ भी जरुरी होता है.

मॉडलिंग के ऑप्शन

रैंप मॉडलिंग

यह मॉडलिंग का सबसे प्रचलित और चैलेंजिंग सेगमेंट है. इसमें मॉडल्स को डिज़ाइनर कपड़े पहनकर रैंप पर वॉक करते हुए आधुनिक फैशन की झलक दिखानी होती है. रैंप का आयोजन बड़े स्तर पर अपने प्रोडक्ट्स को लांच या प्रमोट करने के लिए बड़े ब्रांड्स /मल्टीनेशनल कंपनी करती है. यह  फैशन शो या किसी शोरूम की बात भी हो सकती है. रैंप मॉडलिंग में अच्छी पर्सनालिटी, खड़े होने, चलने की शैली और बॉडी लैंग्वेज का बेहतर होना जरूरी है.

टेलीविजन मॉडलिंग

इसमें कैमरों के सामने मॉडलिंग करनी पड़ती है. टीवी विज्ञापनों, फिल्म, वीडियो, इंटरनेट में इसका उपयोग किया जाता है. आज सभी कंपनी को अपने प्रोडक्ट्स बेचने के लिए एडवरटाइजिंग करनी होती है और इसके लिए मॉडल्स की आवश्यकता होती है. इस मॉडलिंग में करियर बनाने का काफी अच्छा स्कोप है.

प्रिंट मॉडलिंग

इसमें स्टिल फोटोग्राफर्स मॉडल्स की तस्वीरें उतारते हैं, जिनका इस्तेमाल अखबार, कैटलॉग, कैलेंडरों, ब्रोशर्स, मैगजीन आदि में किया जाता है.

शोरूम मॉडलिंग

मॉडल्स आमतौर पर निर्यातकों, गारमेंट निर्माताओं और बडे़ रिटेलरों के लिए काम करते हुए फैशन को प्रदर्शित करते हैं.

फोटोजेनिक फेस होने चाहिए

मॉडलिंग के लिए चेहरा फोटोजेनिक होना चाहिए. शुरुआत में मॉडलों का चयन फोटो देख कर ही किया जाता है. फिर उसके बाद रैम्प पर उतरने के पहले कई टेस्ट से गुजरना पड़ता है. इसमें पर्सनेलिटी को खास रूप से तबज्जो दी जाती है. अच्छी हाइट, फिटनेस, फिगर और खूबसूरत चेहरा होने के साथ ही 'स्माइलिंग पर्सनेलिटी' का होना जरूरी है.

बनाएं अपना पोर्टफोलियो

मॉडलिंग के लिए सबसे पहले एक पोर्टफोलियो की जरूरत पड़ती है क्योंकि आपका पोर्टफोलियो ही आपको शॉर्टलिस्ट कराने में मददगार होता है. एक अच्छे फोटोग्राफर से अपना पोर्टफोलियो बनवाएं. इस पर लगभग 20 हजार रुपये का खर्च हो सकता है.

First published: 21 June 2018, 14:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी