Home » Education News » UP Board Exam 2019: Uttar Pradesh Tightens Surveillance, more than 5 lakh students left the exam
 

UP Board Exam 2019: क्यों छात्रों के बीच मचा है हड़कंप, 5 लाख से अधिक ने छोड़ी बोर्ड परीक्षा

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 February 2019, 17:11 IST

UP Board Exam: उत्तर प्रदेश में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं 7 फरवरी से शुरू हो चुकी हैं और 2 मार्च तक तक चलेगी. इस बार यूपी बोर्ड ने नक़ल और लीक प्रूफ परीक्षा कराने के लिए योगी सरकार ने कई बड़े कदम उठाए हैं. परीक्षाओं को नकल विहीन कराने के लिए दो-दो सीसीटीवी कैमरे और वायस रिकॉर्डर प्रत्येक एग्जाम हॉल में लगाए गए हैं. हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा में 5 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राओं ने परीक्षा बीच में ही छोड़ दिया है.

मेधावी छात्रों को फायदा


यूपी माध्यमिक शिक्षा परिषद के मुताबिक अब तक 5,10, 712 छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी है. इस बार सख्ती के कारण नकल के भरोसे परीक्षा पास करने वाले छात्रों के बीच हड़कंप मचा है. लेकिन मेधावी स्टूडेंट्स को इसका सीधा फायदा होगा क्योंकि नक़ल की वजह से कॉपियों का औसत मूल्यांकन कर दिया जाता है और अच्छे छात्रों को उनके लिखे अनुसार सटीक मार्क्स नहीं मिल पाते हैं.

इस साल राज्य भर के 8,354 परीक्षा केंद्रों पर 58,06,922 स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया है. अगर सिर्फ लखनऊ में देखें तो 112 परीक्षा केंद्रों पर 1,00,078 छात्रों का पंजीयन हुआ है. राज्य में हाईस्कूल (10वीं) के लिए 31,95,603 और इंटरमेडिएट (12वीं) में 26,11,319 छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं. नकल पर सख्ती के चलते 2018 के मुकाबले इस बार 9,15,846 परीक्षार्थी कम हो गए. इस बार सभी परीक्षा केंद्रों पर स्टैटिक मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है.

First published: 15 February 2019, 17:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी