Home » Education News » UP Board Result 2018: UP Board Policy To Affect Pass Percentage and good news for students, now they may get grace marks
 

UP Board खुशखबरी: स्टूडेंट्स को मिली बड़ी राहत, अब ग्रेस मार्क्स से होंगे पास

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2018, 18:19 IST

उत्तर प्रदेश बोर्ड (UPMSP) के 10वीं और 12वीं क्लास के रिजल्ट का इंतज़ार अब खत्म होने को है. यूपी बोर्ड हाई स्कूल (Class 10th) और यूपी बोर्ड इंटरमीडिएट (Class 12th) की परीक्षाओं का रिजल्ट 29 अप्रैल (रविवार) को जारी कर दिया जाएगा. 12वीं का रिजल्ट दोपहर 12:30 बजे जारी होगा. जबकि 10वीं का रिजल्ट ठीक एक घंटे बाद दोपहर 1:30 बजे जारी कर दिया जाएगा.

इस परीक्षा में करीब 66 लाख विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था. लेकिन नकल रोकने के लिए सरकार की तरफ से इतने सख्त इंतजाम किए गए थे कि 11 लाख विद्यार्थियों ने परीक्षा बीच में ही छोड़ दी. इसके बाद ऐसा कहा जा रहा है कि इस बार यूपी बोर्ड का रिजल्ट खराब आ सकता है. 

लेकिन परीक्षार्थियों को बड़ी राहत मिलने वाली है. यूपी बोर्ड के पूर्व सचिव शैल यादव ने बताया कि बोर्ड ने पिछले कुछ वर्षों में अपने नियमों में कई बदलाव किए हैं. उन्होंने बताया कि क्वेश्चन पेपर का पैटर्न भी बदला है. जिसका लाभ सीधे तौर पर स्टूडेंट्स को मिलेगा. हालांकि उन्होने यह भी कहा कि एग्जाम में सख्ती के कारण पास करने के प्रतिशत में कमी तो आएगी लेकिन 1992 जैसे हालात नहीं रहेंगे. साल 1992 में जब कल्याण सिंह मुख्यमंत्री थे तो परीक्षा में सख्ती के कारण 10 वीं में सिर्फ 14.70 फीसदी जबकि इंटर में 30.30 प्रतिशत स्टूडेंट्स पास हुए थे.

ये भी पढ़ें -UP Board Results 2018: यूपी बोर्ड में क्यों रिजल्ट से पहले फेल हो गए 11 लाख स्टूडेंट्स

मिलेंगे ग्रेस मार्क्स

पिछले वर्षों में बोर्ड के नियमों में व्यापक बदलाव होने के वजह से 1992 जैसा खराब रिजल्ट आने के आसार नहीं है. 1992 में 10वीं के 6 विषयों में से किसी एक विषय में फेल होने पर परीक्षार्थी फेल हो जाता था. लेकिन अब 6 में से 5 विषय में पास होने पर ही पास कर दिया जाता है. इस नियम से बड़ी संख्या में परीक्षार्थियों को राहत मिलने के आसार है.

इसी प्रकार 1992 में कुल 5 नंबर का ग्रेस मार्क्स सिर्फ दो विषयों में मिलता था. अब 12th में 20 और10th  में 18 नंबर का ग्रेस मार्क्स सभी विषयों में मिलाकर दिया जाता है. इसके चलते कम नंबर के अंतर से फेल हो रहे स्टूडेंट्स पास हो जाएंगे जबकि 2 सब्जेक्ट में पास की बाध्यता नहीं होने के कारण बड़ी संख्या में परीक्षार्थियों को राहत मिलने की संभावना है.

First published: 28 April 2018, 18:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी