Home » Education News » UP Deputy CM Dinesh Sharma says results of 10th and 12th board exams of UP will not be repeated, allegations of disturbances found
 

खुशखबरी: योगी सरकार दोबारा नहीं करेगी 10वीं-12वीं के रिजल्ट की जांच, गड़बड़ी के लगे थे आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 May 2018, 12:04 IST

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा के नतीजों की दोबारा जांच नहीं करने का फैसला लिया है. यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने विपक्ष की तरफ से नंबर बढ़ाकर बच्चों को पास कराए जाने के आरोपों को ख़ारिज कर दिया. गौरतलब है कि यूपी में हुई बोर्ड की परीक्षाओं के रिजल्ट पर विपक्ष सहित कई लोगों ने सवाल खड़े किए थे.

पिछले साल बिहार के रिजल्ट की तरह यूपी बोर्ड के नतीजों में भी बड़े पैमाने पर गड़बड़ी के आरोप लग रहे थे. उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UPMSP) पर आरोप लगे थे कि बोर्ड ने कापियों में सिर्फ 2 और 3 अंक पाने वाले लाखों स्टूडेंट्स की मार्कशीट पर कई गुना अधिक नंबर चढ़ाकर उन्हें उत्तीर्ण घोषित कर दिया है. विपक्ष ने आरोप लगाया था कि योगी सरकार ने अपने  सियासी फायदे के लिए लाखों स्टूडेंट्स को ज्यादा नंबर देकर पास कर दिया.

सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी मार्कशीट्स

उत्तर पुस्तिकाओं पर दिए गए अंक और मार्कशीट पर उसे बढ़ाकर कई गुना ज़्यादा किए जाने संबंधित तमाम डॉक्यूमेंट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे थे. इस मामले पर यूपी बोर्ड के मुख्यालय के अधिकारी कोई भी बयान देने से बच रहे थे. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे दस्तावेज में यह दावा किया जा रहा था कि कई स्टूडेंट्स को कापियों में सिर्फ दो या तीन नंबर ही मिले. इस आधार पर उन्हें उस सब्जेक्ट या पेपर में फेल होना चाहिए था लेकिन वह पास हो गए हैं.

ये भी पढ़ें -UP Board Result 2018: बोर्ड के इन टॉपर्स पर क्यों पूरे यूपी को गर्व है, ये हैं टॉप -5

कापियों पर दिए गए जो नंबर एवार्ड शीट पर चढ़ाए गए थे, मार्कशीट के नंबर उससे काफी भिन्न थे और फेल वाले उस रोल नंबर को पास दिखाया गया है. गौरतलब है कि एवार्ड शीट के अंको को ही मार्कशीट पर दर्शाया जाता है. सोशल मीडिया पर सैकड़ों बच्चों की एवार्ड शीट और मार्कशीट को वायरल कर बोर्ड एग्जाम में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी के दावे किए जा रहे थे.

उत्तर प्रदेश बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 6 फरवरी से 12 मार्च तक एकसाथ हुई थीं. इस साल यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के लिये कुल 66 लाख 37 हजार 18 छात्र-छात्राओं ने फार्म भरा था. परीक्षा में नकल रोकने के लिए इस बार पुख्ता इंतजाम किए गए थे, CCTV से पूरे एग्जाम सेंटर की निगरानी की गई थी. इसके चलते इस बार रिकॉर्ड स्तर पर 11 लाख छात्र-छात्राओं ने परीक्षा छोड़ दी थी.

10वीं में इस बार इलाहाबाद के बृज बिहारी स्कूल की अंजलि वर्मा ने 578 अंक पाकर टॉप किया है. वहीं यूपी बोर्ड की 12वीं की परीक्षा में रजनीश शुक्ला और आकाश मौर्या ने संयुक्त रूप से टॉप किया है. 10वीं की परीक्षा में 75.16 फीसदी छात्र पास हुए हैं. यूपी के 10वीं की बोर्ड परीक्षा में इस बार10वीं के 37 लाख विधार्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था जिसमें  6,60,507 स्टूडेंट्स ने परीक्षा परीक्षा बीच में ही छोड़ दी थी.

First published: 6 May 2018, 12:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी