Home » मनोरंजन » 65th national film award, president office is not happy with the controversy send complaint to PMO
 

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विवाद से नाराज राष्ट्रपति कार्यालय, PMO से की शिकायत

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 May 2018, 12:03 IST

65वां राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार इस बार विवादों में घिरा रहा. लगभग 55 हस्तियों ने कार्यक्रम का बहिस्कार किया. इसका कारण था राष्ट्रपति कोविंद द्वारा सभी विजेताओं को पुरस्कार न दिया जाना. कार्यक्रम के पहले लोगों को ये सूचना दी गयी कि राष्ट्रपति केवल 11 हस्तियों को ही पुरस्कार देंगे. इस बात का कई हस्तियों ने काफी विरोध किया है.

इस पूरे मामले से राष्ट्रपति कार्यालय नाराज़ है. सूत्रों के मुताबिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के कार्यालय ने इस बाबत सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से नाराज़गी जताई है. साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यालय से भी इसकी शिकायत की है.

इस बार फ़िल्म जगत की क़रीब 55 शख़्सियतों ने राष्ट्रीय पुरस्कार लेने से इंकार कर दिया था. उन्होंने पुरस्कार वितरण समारोह का बहिष्कार भी किया था क्योंकि एक दिन पहले उन्हें रिहर्सल के दौरान मंत्रालय ने बताया था कि सिर्फ़ 11 लोगों को राष्ट्रपति के हाथों पुरस्कार दिए जाएंगे. बाकी सभी को सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी पुरस्कार देंगी.

ये भी पढ़ें- 65th National Film Awards: श्रीदेवी को मिलेगा बेस्ट एक्ट्रेस का अवार्ड, 60 से ज्यादा विजेताओं ने किया बहिष्कार

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक राष्ट्रपति कार्यालय का मानना है कि इस पूरे विवाद का कारण सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की लापरवाही है. सूत्र बताते हैं कि मंत्रालय को मार्च में ही यह बता दिया गया था कि राष्ट्रपति इस समारोह में ज़्यादा वक़्त तक रुक नहीं पाएंगे. वे सिर्फ़ एक घंटे का समय ही कार्यक्रम के लिए निकाल पाएंगे इसलिए सभी को उनके हाथ से पुरस्कार दे पाना मुश्किल होगा. ऐसे में मंत्रालय पर ही यह फ़ैसला छोड़ दिया गया था कि वह कितने लोगों काे राष्ट्रपति के हाथों पुरस्कार दिलाना चाहता है.

राष्ट्रपति के प्रेस सचिव अशोक मलिक इसकी पुष्टि करते हैं. उनके मुताबिक, ‘जो भी मंत्रालय या संस्थान अपने कार्यक्रमों में राष्ट्रपति को बुलाते हैं उन्हें हमारा कार्यालय हफ़्तों पहले यह बता देता है कि वे कितना समय दे पाएंगे. मौज़ूदा राष्ट्रपति के शुरूआती कार्यकाल से ही यह व्यवस्था बनी हुई है. इस कार्यक्रम के दौरान भी सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को राष्ट्रपति के कम समय की उपलब्धता के बारे में बता दिया गया था. इस पर विभिन्न बैठकों में मंत्रालय से चर्चा भी की जा चुकी थी.’

ये भी पढ़ें- श्रीदेवी की तरह पापा बोनी को लेकर काफी केयरिंग हैं जाह्नवी, देखें तस्वीर

क्या था मामला

65वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार कार्यक्रम शुरुआत से पहले ही विवादों में घिर गया. 55 लोगों ने इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया. इस सेरेमनी में 60 से अधिक लोगों ने शिरकत करने से इंकार कर दिया क्योंकि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद केवल 11 लोगों को पुरस्कार प्रदान करने वाले थे.

गौरतलब है कि राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार साल 1954 से आयोजित होता आ रहा है जिसमें देश के राष्ट्रपति विजेताओं को सम्मानित करते आ रहे हैं. लेकिन इस बार अवॉर्ड शो के रिहर्सल के दौरान खबर सामने आई कि राष्ट्रपति सिर्फ 11 लोगों को अवॉर्ड प्रदान करेंगे.

 

First published: 5 May 2018, 12:03 IST
 
अगली कहानी