Home » मनोरंजन » Bombay High Court allows UdtaPunjab to be released with just one cut and a revised disclaimer
 

हाईकोर्ट से सिर्फ एक कट के साथ 'उड़ता पंजाब' को हरी झंडी

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 June 2016, 17:19 IST

लंबे अरसे से विवादों में घिरी फिल्म उड़ता पंजाब को एक कट के साथ बॉम्बे हाईकोर्ट ने रिलीज करने की हरी झंडी दे दी है. केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के साथ फिल्म के निर्माताओं का विवाद चल रहा था.

फिल्म के निर्माता अनुराग कश्यप ने ट्वीट किया, "मैं भरोसा करता हूं. उड़ता पंजाब को सिर्फ एक कट और बदले हुए डिस्क्लेमर के साथ बॉम्बे हाईकोर्ट ने रिलीज करने की इजाजत दे दी है."

बॉम्बे हाईकोर्ट ने आज मामले पर सुनवाई करते हुए केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड को निर्देश दिया कि फिल्म उड़ता पंजाब को दो दिन के अंदर नया सर्टिफिकेट जारी किया जाए. इस मामले में सेंसर बोर्ड की ओर से रोक लगाने की मांग को हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया. 

सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी फिल्म को लेकर सवालों के घेरे में थे. बॉलीवुड ने भी सेंसर बोर्ड के रवैए के खिलाफ खुलकर फिल्म की टीम का समर्थन करते हुए हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी.

हाईकोर्ट के निर्देश के बाद अनुराग कश्यप के वकील ने कहा कि हमें फिल्म का केवल एक सीन हटाना होगा. ये लोकतंत्र की जीत है.

फिल्म के निर्देशक अभिषेक चौबे ने फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "आज हमें बहुत बड़ी राहत मिली है. हम तय तारीख पर फिल्म को रिलीज करने की तैयारी करने जा रहे हैं."

वहीं जाने-माने निर्देशक मधुर भंडारकर ने कहा कि बॉम्बे हाईकोर्ट का आज का फैसला सभी फिल्म निर्माताओं के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा. ये फैसला एक बड़े बदलाव के रूप में याद किया जाएगा.

हाईकोर्ट का सख्त रुख

हाईकोर्ट ने कहा, "अगर फिल्म निर्माता किसी समस्या को उठाना चाहते हैं, तो उस पर दखल देने का अधिकार किसी को नहीं है, जब तक रचनात्मकता की आजादी का दुरुपयोग नहीं होता." गौरतलब है कि सेंसर बोर्ड ने कथित तौर पर पहले फिल्म में कुल 89 कट लगाए थे और फिल्म के केवल 73 फीसदी हिस्से को दिखाने की मंजूरी दी थी.

अदालत ने टिप्पणी करते हुए कहा, "कट नंबर छह की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि यहां सामान्य शब्दों (एमपी, एमएलए, संसद आदि) का जिक्र किया गया है. जो किसी संगठन या संस्था के संदर्भ में नहीं है. ये सामान्य राजनीतिक क्रिया-कलाप है."

हाईकोर्ट ने मामले पर सुनवाई करते हुए कहा कि सेंसर बोर्ड की कट नंबर 8 की सलाह गैर जरूरी है. ड्रग्स के इंजेक्शन का केवल एक क्लोज अप सीन दिशा-निर्देशों का उल्लंघन नहीं है.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने टिप्पणी की, "पंजाब हरित क्रांति और बहादुर सैनिकों की धरती है. एक वाक्य (जमीन बंजर ते औलाद कंजर) इस छवि को प्रभावित नहीं कर सकता."

17 जून को फिल्म की रिलीज

हालांकि ज्यादा आलोचना होने के बाद रविवार को सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी ने कहा कि बोर्ड ने फिल्म 'उड़ता पंजाब' में 13 कट के बाद उसे 'ए' सर्टिफिकेट दिया है.

निर्देशक अभिषेक चौबे की फिल्म 'उड़ता पंजाब' में शाहिद कपूर, आलिया भट्ट, करीना कपूर और दिलजीत दोसांज ने अभिनय किया है. यह फिल्म पंजाब में युवाओं के बीच बढ़ रहे ड्रग्स के चलन की समस्या पर बनी है

सिनेमा घरों में यह फिल्म 17 जून को रिलीज होने वाली है. हाईकोर्ट ने ये भी कहा कि सेंसर बोर्ड ने कट नंबर पांच की जो सलाह दी है, वो सही है, क्योंकि इसमें अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया है.

First published: 13 June 2016, 17:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी