Home » मनोरंजन » Om Puri in trouble, complaint in Mumbai's Andheri PS for his comments on Indian soldiers
 

'क्या हमने कहा था फौज में जाओ'- अभद्र टिप्पणी पर ओम पुरी के खिलाफ शिकायत दर्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 October 2016, 15:48 IST
(फाइल फोटो)

पाकिस्तानी कलाकारों को लेकर बॉलीवुड में विवाद गरमाता जा रहा है. हाल ही में अभिनेता सलमान खान ने कहा था कि पाकिस्तानी कलाकार कोई आतंकी नहीं हैं, वे वीजा लेकर भारत में काम के लिए आते हैं.

सलमान के इस बयान पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने हमला बोला था. राज ने कहा था कि भारतीय सैनिक सलमान की तरह गोली खाकर खड़े नहीं हो जाते हैं. इस बीच पाकिस्तानी कलाकारों से जुड़े मुद्दे पर बयान देने के मामले में अभिनेता ओम पुरी की मुश्किल बढ़ गई है.

मुंबई के अंधेरी पुलिस स्टेशन में भारतीय सैनिकों को लेकर ओम पुरी के बयान के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई है. इससे पहले ओम पुरी और फिल्म निर्देशक नागेश कुकुनूर भी पाकिस्तानी कलाकारों के समर्थन में आगे आए. 

'कौन जबरदस्ती फौज में भेजता है'

एक निजी समाचार चैनल पर कार्यक्रम के दौरान फिल्म अभिनेता ओम पुरी ने विवादास्पद बयान देते हुए कहा, ''कौन जबरदस्ती लोगों को फौज में भेजता है? हमने किसी जवान को फोर्स किया था कि फौज में जाओ.''

टीवी चैनल के कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए ओम पुरी ने आगे कहा, "भारत और पाकिस्तान को इजराइल और फिलिस्तीन न बनाएं. कुछ लोग देश के मुस्लिमों को भड़काने का काम कर रहे हैं."

पाक कलाकारों का किया समर्थन

ओम पुरी ने कहा था कि कला और राजनीति को एक-दूसरे से अलग रखना चाहिए और पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन लगाने से दोनों देशों के हालात में कोई बदलाव नहीं आएगा.

ओम पुरी ने कहा, "पाक कलाकार हमारे देश में कोई गैर कानूनी तरीके से काम नहीं कर रहे हैं और उन्हें वापस भेजने से उन भारतीय फिल्म निर्माताओं को काफी नुकसान होगा, जिन्होंने उन कलाकारों को अपनी फिल्मों में ले रखा है."

65 वर्षीय फिल्म अभिनेता ने कहा, "जब सरकार कार्रवाई कर रही है, तो हम सबको शांत रहना चाहिए. हम यहां काम कर रहे पाकिस्तानी कलाकारों को वापस भेजें या यहीं रहने दे, यह शायद ही मायने रखता है. मैं छह बार पाकिस्तान गया हूं और वहां हर वर्ग के लोगों से मिला हूं." 

ओम पुरी ने कहा, "पाकिस्तान के लोग हमेशा मुझसे प्रेम और गर्मजोशी से मिले हैं. पाकिस्तानी कलाकार जिन फिल्मों में काम कर रहे हैं, अगर उन्हें वे बीच में ही छोड़ दें तो भारत में लोगों (फिल्मकारों) को वित्तीय नुकसान उठाना होगा. भारत सरकार अगर उन्हें देश छोडने को कहे तो अलग बात है."

इसके अलावा फिल्मकार नागेश कुकुनूर ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच स्थिति जटिल है, लेकिन कला को राजनीति से दूर रखना चाहिए.

कुकुनूर ने कहा, "मेरा हमेशा मानना रहा है कि कला को अकेले खड़ा होना चाहिए. अगर आप किसी देश के इतिहास के सबसे बुरे दौर को देखें, जैसे द्वितीय विश्वयुद्ध तो कला की तब भी अपनी आवाज थी. मुझे नहीं लगता कि दोनों में घालमेल किया जाना चाहिए."

फिल्म निर्देशक ने कहा, "भारत-पाकिस्तान की स्थिति एक बेहद जटिल स्थिति है. हम सब एक ही देश के हिस्से हैं. साथ मिलकर शांति की तलाश करने के लिहाज से 60-70 साल बहुत ही छोटी अवधि है."

First published: 4 October 2016, 15:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी