Home » मनोरंजन » Filmmakers Vikas Bahl and Anurag Kashyap move Bombay High Court against CBFC over 'Udta Punjab' controversy
 

'उड़ता पंजाब' का विवाद पहुंचा हाईकोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2016, 16:00 IST

रिलीज से पहले फिल्म उड़ता पंजाब को लेकर मचा विवाद अब हाई कोर्ट की दहलीज पर पहुंच गया है. फिल्म के निर्माता विकास बहल और अनुराग कश्यप ने बॉम्बे हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की है.

याचिका में केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) की काट-छांट के खिलाफ राहत की मांग की गई है. सेंसर बोर्ड ने फिल्म से पंजाब शब्द हटाने और 89 सीन पर कैंची चलाने के साथ रिलीज करने का आदेश दिया था, जिसके बाद विवाद गहराता जा रहा है.

अभिषेक चौबे के निर्देशन में बनीं ये फिल्म पंजाब की ड्रग्स समस्या पर आधारित है. सेंसर बोर्ड ने फिल्म से पंजाब और इसकी तमाम जगहों के नाम हटाने को कहा है. पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं. माना जा रहा है कि इसी वजह से बोर्ड ने इस शब्द को सेंसर करने का फैसला किया है.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने फिल्म के निर्माताओं की याचिका मंजूर कर ली है. अब इस मामले में गुरुवार को हाईकोर्ट में सुनवाई होगी.

नॉर्थ कोरिया से तुलना

फिल्म 12 जून को रिलीज होने वाली है. सेंसर बोर्ड द्वारा फिल्म के कई सीन पर कैंची चलाने के मामले में निर्माता अनुराग कश्यप ने भारत की तुलना तानाशाही शासन वाले देश नॉर्थ कोरिया से की है.

अनुराग कश्यप ने ट्वीट करते हुए कहा था, "मुझे हमेशा हैरत होती थी कि नॉर्थ कोरिया में रहने पर कैसा महसूस होता होगा. अब तो प्लेन पकड़ने की भी जरूरत नहीं है." 

पढ़ें: उड़ता पंजाब: सेंसर की कैंची पर अनुराग कश्यप की जुबानी छुरी

कश्यप ने दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस पार्टी को इस मामले से दूर रहने को कहा है. कश्यप ने कहा कि मेरी लड़ाई से राजनीतिक पार्टियां दूर रहें. यह लड़ाई मेरी और सेंसर बोर्ड में बैठे तानाशाहों के बीच है.

बोर्ड के सदस्य ने भी उठाया सवाल

अभिषेक चौबे के निर्देशन में बनी 'उड़ता पंजाब' फिल्म 17 जून को रिलीज होने वाली है. यह फिल्म पंजाब में ड्रग्स की समस्या पर आधारित है. फिल्म में  शाहिद कपूर, आलिया भट्ट, करीना कपूर खान और दलजीत दौसांज मुख्य भूमिका में हैं. 

पढ़ें: 'उड़ता पंजाब से उड़ता मजाक तक...'

वहीं सेंसर बोर्ड के सदस्य ने भी फिल्म के नाम को बदलने के आदेश पर सवाल खड़े किए हैं. अशोक पंडित ने कहा, "अगर राज्य का नाम शामिल नहीं करने को कहा जा रहा है, तो इसका क्या नाम होना चाहिए? उड़ता मंगल या उड़ता शनि?"

पहलाज ने बताया पब्लिसिटी स्टंट

इस मसले पर सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी का कहना है कि फिल्म पर बेवजह विवाद खड़ा किया जा रहा है. यह सब कुछ अनुराग कश्यप का पब्लिसिटी स्टंट है.

निहलानी ने कहा, "फिल्म में कट पैनल सदस्यों की सलाह पर निर्भर करता है. अनुराग की ओर से लगाए जा रहे आरोप बेबुनियाद हैं. मैंने कभी नहीं कहा कि उड़ता पंजाब फिल्म पंजाब में रिलीज नहीं होनी चाहिए. अनुराग कश्यप विवाद का फायदा उठाना चाहते हैं. वो पहले भी ऐसा कर चुके हैं."

First published: 8 June 2016, 16:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी