Home » मनोरंजन » From Hot to Hijab: See the latest cover page of world famous magazine Playboy featuring US muslim journalist Noor
 

हॉट से हिजाबः प्लेब्वॉय पर चढ़ा संस्कार का बुखार

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2017, 8:24 IST

लगता है हॉट, बोल्ड और न्यूड तस्वीरों के लिए दुनियाभर में मशहूर अमेरिकी मैग्जीन प्लेब्वॉय पर संस्कार का बुखार चढ़ गया है. शायद यही वजह है कि प्लेब्वॉय मैग्जीन ने अपने कवर पेज पर इस बार हॉट मॉडल की बजाए हिजाब पहने मुस्लिम युवती को जगह दी है. पूर्व की ही भांति जहां तमाम लोग इसकी तारीफ में कसीदे पढ़ रहे हैं तो कुछ ने विरोध का बिगुल फूंक दिया है.

गौरतलब है कि प्लेब्वॉय मैग्जीन के प्रकाशकों द्वारा बीते वर्ष यह फैसला लिया गया था कि वे अपनी हॉट एंड बोल्ड तस्वीरें छापने की परंपरा को अलविदा कह देंगे. हो सकता है यही वजह रही हो जिसके चलते प्लेब्वॉय ने अक्तूबर 2016 रोनीगेड्स अंक के कवर पेज पर हिजाब में नजर आ रहीं अमेरिका की जर्नलिस्ट नूर टगौरी को स्थान दिया है.

'मैं हिंदू भी हो सकती थी, लेकिन मैंने इस्लाम चुना'

बताया जा रहा है कि यह अंक महिला और पुरुषों पर केंद्रित श्रंखला की एक कड़ी पर आधारित है जिसमें उन लोगों को शामिल किया जाता है जो अपनी रुचि के काम करने के लिए कोई भी जोखिम उठाने को तैयार रहते हैं और उठा भी चुके हैं. यह श्रंखला अपनी जान जोखिम में डालकर केवल अपने मन के काम करने वाले लोगों की जिंदगी पर आधारित है.

एक वीडियो न्यूज नेटवर्क में काम करने वाली 22 साल की नूर टगौरी भी कुछ इसी तरह की हैं जो काफी जोखिम उठा चुकी हैं. इसलिए प्लेब्वॉय ने काला लेदर जैकेट, जींस और स्नीकर्स पहने हुए और हिजाब से सिर ढंके हुए नूर की तस्वीर को कवर पर स्थान दिया. 

इन 8 ईरानी मॉडल्स का कुसूर सिर्फ इतना था कि ये इंस्टाग्राम पर थीं

सोशल मीडिया पर 2012 में #लेटनूरशाइन (#LetNoorShine) नामक एक अभियान शुरू करने वाली नूर लीबिया मूल की हैं और उनकी ख्वाहिश है कि वे अमेरिकी टीवी चैनलों पर पहली हिजाब पहनने वाली एंकर बनें. उनके इस अभियान के चलते सोशल मीडिया पर उनके 1 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं. 

मीडिया को दी जानकारी के मुताबिक नूर ने कहा कि एक मुस्लिम महिला के रूप में अमेरिका में उनकी परवरिश उनके करियर को आगे ले जाने में काफी मददगार साबित हुई.

शादी के बाद महिलाएं क्यों लगाती हैं पति का सरनेम? 

वहीं, नूर की इस तस्वीर के आने के बाद एक वेबसाइट ने लिखा कि प्लेब्लॉय पोर्नोग्राफी का पर्याय है और यह मंच दशकों से महिलाओं को वस्तु के रूप में यौन उपयोग जैसे गलत तरीकों से पेश करती आई है. उनके द्वारा अपनी छवि को सुधारने की एक कोशिश के रूप में उनका समर्थन किया जाए, सही नहीं है.

First published: 28 September 2016, 6:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी