Home » मनोरंजन » Google with other search engines will work with entertainment companies to stop showing search results of torrent websites, downloading movies will be difficult
 

अब टॉरेंट से फिल्म डाउनलोड करने में मदद नहीं करेगा गूगल

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 19:34 IST

इंटरनेट ने जहां ज्यादातर लोगों को तमाम सहूलियतें और सुविधाएं दी हैं, तमाम को इससे परेशानी और नुकसान का भी सामना करना पड़ा. फिल्म इंडस्ट्री भी इनमें से ही एक है जिसे पाइरेसी के चलते काफी नुकसान उठाना पड़ता है. लेकिन अब पाइरेसी रोकने के लिए दिग्गज सर्च इंजन गूगल समेत अन्य सर्च इंजन भी एकजुट होकर एक नया कदम उठाने जा रहे हैं.

एंटी-पाइरेसी अभियान के तहत गूगल समेत अन्य सर्च इंजनों  की एंटरटेनमेंट कंपनियों के साथ एक नई तरह के कोड बनाने पर चर्चा चल रही है. इस नए कोड के जरिये सर्च इंजनों पर पाइरेटेड कंटेंट को खोजने से रोका जा सकेगा. जब यूजर्स सर्च इंजन पर किसी फिल्म, गाने, शो या मनोरंजन से जुड़ा कोई भी कॉपीराइट टाइटिल सर्च करेंगे, तो उन्हें परिणाम नहीं दिखेंगे.

सीधे शब्दों में कहें तो अपनी मनपंसद फिल्मों को डाउनलोड करने के लिए टॉरेंट वेबसाइट्स को सर्च इंजन पर खोजना मुश्किल हो जाएगा और फिल्में डाउनलोड नहीं हो सकेंगी. 

इंटरनेट से डाउनलोड करते हैं फिल्म तो हो जाएं सावधान

ब्रिटेन के बौद्धिक संपदा अधिकार (इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स) की मानें तो नए समझौते के तहत सभी कंपनियों को आगामी 1 जून तक नए नियम बनाने के लिए कहा गया है. इसके पीछे माना जा रहा है कि इंटरनेट पाइरेसी में सबसे प्रमुख भूमिका सर्च इंजनों की ही है.

कॉपीराइट धारकों के लिए अपने कंटेंट को पाइरेसी से बचाने के लिए सर्च इंजनों के परिणामों से खतरा होता है. इसलिए सरकार द्वारा गूगल और एंटरटेनमेंट कंपनियों के साथ मिलकर इसका उपाय ढूंढ़ने और कारगर कदम उठाने की पहल की गई है.

बताया जा रहा है कि गूगल और एंटरटेनमेंट कंपनियों के प्रतिनिधि एकसाथ मिलकर इस समस्या के समाधान पर चर्चा करेंगे और समाधान निकलने के बाद उसे लागू करने के लिए निर्धारित योजना को सरकार के साथ साझा करेंगे. 

टोनी स्टार्क की जगह आयरन मैन का सूट पहनेगी एक लड़की

इस बाबत ब्रिटिश सांसद पीटा जैन बसकॉम्ब का कहना है कि सर्च इंजनों द्वारा अपने कामों  और प्रक्रिया में सुधार को लेकर शुरुआत से ही सहयोग का रवैया देखा गया है. ऐसे में आपसी समझौते से इसका हल निकालने के बारे में फैसला किया गया है.

First published: 10 February 2017, 19:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी