Home » मनोरंजन » Miss World Manushi Chhillar says not planning to join Bollywood
 

'मुझे कॉलेज वापस लौटना है, बॉलीवुड में जाने के बारे में नहीं सोचा'

न्यूज एजेंसी | Updated on: 1 December 2017, 16:13 IST

मानुषी छिल्लर ने विश्व सुंदरी 2017 प्रतियोगिता के दौरान 'नगाड़े संग ढोल' गीत पर नृत्य किया था. इसके कारण उनके सह-प्रतियोगियों को लगा था कि वह 'बॉलीवुड अभिनेत्री' हैं. लेकिन मानुषी का इरादा फिलहाल बॉलीवुड में कदम दखने का नहीं है. वह विश्व सुंदरी का कार्यकाल पूरा होने के बाद अपनी मेडिकल की पढ़ाई पूरी करना चाहती हैं.

यह पूछने पर कि सौंदर्य प्रतियोगिता के विजेता स्वाभाविक तौर पर बॉलीवुड में प्रवेश करते हैं, ऐसे में उनका क्या इरादा है? 20 वर्षीया मानुषी ने मुंबई से फोन पर बताया, "प्रतियोगियों को लगा था कि मैं बॉलीवुड अभिनेत्री हूं."

उन्होंने कहा, "फिलहाल तो मैं विश्व सुंदरी के रूप में अपनी यात्रा को लेकर उत्साहित हूं, क्योंकि यह एक अविश्वसनीय वर्ष होने वाला है. बॉलीवुड के बारे में वाकई मैंने नहीं सोचा है, उसके बाद देखते हैं क्या होता है क्योंकि मुझे अपनी पढ़ाई भी पूरी करनी है, और इसके लिए मुझे कॉलेज वापस लौटना है."

हरियाणा के सोनीपत जिले में ऑल-गर्ल्स मेडिकल कॉलेज में मेडिकल की पढ़ाई करते हुए मानुषी ने चीन के सान्या में विश्व सुंदरी 2017 का ताज जीता, लेकिन यह चकाचौंध उन्हें शिक्षा से दूर नहीं ले जा सका है.

उन्होंने कहा, "आप जल्द ही एक भावी डॉक्टर देखेंगे, क्योंकि चिकित्सा एक लंबा कोर्स है. मुझे लगता है कि एक डॉक्टर और एक विश्व सुंदरी के रूप में आप का उद्देश्य समान होता है. आप लोगों के जीवन को सहज (बातचीत और गतिविधियों के साथ) बनाते हैं. विश्व सुंदरी के रूप में मैं लोगों को बेहतर ढंग से समझ सकूंगी."

एक कवि, चित्रकार और कुचीपुड़ी नृत्यांगना मानुषी हृदय सर्जन बनना चाहती हैं और महिलाओं के बीच मासिक धर्म की स्वच्छता से संबंधित एक परियोजना से भी जुड़ी हैं. उनका मानना है कि विश्व सुंदरी बनने के बाद परियोजना का अधिक विस्तार होगा.

'मिस कैंपस प्रिंसेस' और 'मिस हरियाणा' का खिताब जीत चुकीं मानुषी ने कहा, "मैं खुश हूं कि विश्व सुंदरी प्रतियोगिता ने मेरी परियोजनाओं में गहरी दिलचस्पी ली है. अब, मैं इसका विस्तार कर सकती हूं और बड़ी संख्या में लोगों तक पहुंच सकती हूं." वह महसूस करती हैं कि भारतीय होने के कारण विश्व सुंदरी समारोह के दौरान उन्हें महत्व मिला.

उन्होंने कहा, "मेरे साथ अलग बात यह थी कि मैं भारत से हूं और इसलिए मेरे साथ ढेर सारा प्यार और शिक्षाएं थीं. यह मेरे लिए एक अच्छा समय था, जिसका मैंने आनंद लिया. मैं सिर्फ मैं थी और मुझे लगता है कि इससे मेरे लिए सबकुछ आसान हो गया."

मानुषी का मानना है कि बड़ी ताकत के साथ बड़ी जिम्मेदारी भी आ जाती है और वह इस जिम्मेदारी को निभाने के लिए तैयार हैं.

First published: 1 December 2017, 16:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी