Home » मनोरंजन » NIRUPA ROY WAS ONLY ONE MOTHER IN HINDI CINEMA
 

सिनेमा के रुपहले पर्दे पर 'मां' तो केवल निरूपा रॉय ही थीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:46 IST
(फिल्म 'दीवार')

हिन्दी सिनेमा में पर्दे पर निरूपा रॉय ने मां के किरदार को अमर कर दिया. निरूपा को ऐसी अभिनेत्री के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अगल-अलग फिल्मों में मां के चरित्र को नया आयाम दिया.

निरूपा रॉय का मूल नाम कोकिला था और उनका जन्म चार जनवरी 1931 को गुजरात के बलसाड में एक मध्यमवर्गीय गुजराती परिवार में हुआ था.

उनके पिता रेलवे में काम किया करते थे. निरूपा रॉय ने चौथी तक शिक्षा प्राप्त की. इसके बाद उनका विवाह मुंबई में कार्यरत राशनिंग विभाग के कर्मचारी कमल रॉय से हो गई. शादी के बाद निरूपा रॉय मुंबई आ गईं.

ये उन दिनों की बात है जब जाने-माने निर्माता-निर्देशक बीएम व्यास अपनी नई फिल्म ‘रनकदेवी’ के लिए नए चेहरों की तलाश कर रहे थे.

उन्होंने अपनी फिल्म में कलाकारों की आवश्यकता के लिए अखबार में विज्ञापन निकाला. निरूपा रॉय के पति फिल्मों के बेहद शौकीन थे और अभिनेता बनना चाहते थे. कमल रॉय अपनी पत्नी को लेकर बीएम व्यास से मिलने गए और अभिनेता बनने की पेशकश की, लेकिन व्यास ने साफ कह दिया कि उनका व्यक्तित्व अभिनेता के लायक नही है, लेकिन यदि वह चाहे तो उनकी पत्नी को फिल्म में अभिनेत्री के रूप में काम मिल सकता है.

फिल्म रनकदेवी में निरूपा रॉय 150 रुपए महीने पर काम करने लगी, लेकिन बाद में उन्हें इस फिल्म से अलग कर दिया गया. निरूपा रॉय ने अपने सिने कॅरियर की शुरुआत 1946 में प्रदर्शित गुजराती फिल्म ‘गणसुंदरी’ से की. वर्ष 1949 में प्रदर्शित फिल्म ‘हमारी मंजिल’ से उन्होंने हिंदी फिल्म की ओर भी रूख कर लिया.

ओपी दत्ता के निर्देशन में बनी इस फिल्म में उनके नायक की भूमिका प्रेम अदीब ने निभाई. उसी वर्ष उन्हें जयराज के साथ फिल्म ‘गरीबी’ में काम करने का अवसर मिला. इन फिल्मों की सफलता के बाद वह अभिनेत्री के रूप में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गई.

वर्ष 1951 में निरूपा रॉय की एक और महत्वपूर्ण फिल्म ‘हर हर महादेव’ प्रदर्शित हुई. इस फिल्म में उन्होंने देवी पार्वती की भूमिका निभाई. फिल्म की सफलता के बाद वह दर्शकों के बीच देवी के रूप में प्रसिद्ध हो गई. इसी दौरान उन्होंने फिल्म ‘वीर भीमसेन’ में द्रौपदी का किरदार निभाकर दर्शकों का दिल जीत लिया.

पचास और साठ के दशक में निरूपा रॉय ने जिन फिल्मों में काम किया उनमें अधिकतर फिल्मों की कहानी धार्मिक और भक्तिभावना से पूर्ण थी.

हालांकि वर्ष 1951 में प्रदर्शित फिल्म ‘सिंदबाद द सेलर’ में निरूपा रॉय ने नकारात्मक चरित्र भी निभाया.

वर्ष 1953 में प्रदर्शित फिल्म ‘दो बीघा जमीन’ निरूपा रॉय के सिने कॅरियर के लिए मील का पत्थर साबित हुई. विमल रॉय के निर्देशन में बनी इस फिल्म में वह एक किसान की पत्नी की भूमिका में दिखाई दी. फिल्म में बलराज साहनी ने मुख्य भूमिका निभाई थी. बेहतरीन अभिनय से सजी इस फिल्म में दमदार अभिनय के लिए उन्हें अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त हुई.

वर्ष 1955 में फिल्मिस्तान के बैनर तले बनी फिल्म ‘मुनीम जी’ निरूपा रॉय की अहम फिल्म साबित हुई. इस फिल्म में उन्होंने देवानंद की मां की भूमिका निभाई. फिल्म में अपने सशक्त अभिनय के लिए वह सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की गई.

वर्ष 1961 में प्रदर्शित फिल्म ‘छाया’ में उन्होंने एक बार फिर मां की भूमिका निभाई. इसमें वह आशा पारेख की मां बनी. फिल्म में भी उनके जबरदस्त अभिनय को देखते हुए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्मफेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

वर्ष 1975 में प्रदर्शित फिल्म ‘दीवार’ निरूपा रॉय के कॅरियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है. यश चोपड़ा के निर्देशन में बनी इस फिल्म में उन्होंने अच्छाई और बुराई का प्रतिनिधत्व करने वाले शशि कपूर और अमिताभ बच्चन के मां की भूमिका निभाई.

फिल्म में उन्होंने अपने स्वाभाविक अभिनय से मां के चरित्र को जीवंत कर दिया. निरूपा रॉय के सिने कैरियर पर नजर डालने पर पता चलता है कि सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की मां के रूप में उनकी भूमिका अत्यंत प्रभावशाली रही है.

वर्ष 1999 में प्रदर्शित फिल्म ‘लाल बादशाह’ में वह अंतिम बार अमिताभ बच्चन की मां की भूमिका में दिखाई दी. निरूपा रॉय ने अपने पांच दशक लंबे सिने कॅरियर में लगभग 300 फिल्मों में अभिनय किया.

अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुगध करने वाली निरूपा रॉय का निधन 13 अक्तूबर 2004 को हुआ.

First published: 13 October 2016, 11:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी