Home » मनोरंजन » One world record: Meet lyricist Sameer
 

गीतकार समीर के कुछ सुरीले नग़में, जिनकी वजह से वे गिनीज़ बुक में शामिल हुए

आशीष कुमार पाण्डेय | Updated on: 17 February 2016, 23:04 IST

बॉलीवुड के मशहूर गीतकार समीर ने अपने 30 साल के फिल्मी सफर में लगभग 650 फिल्मों में 4000 से भी ज्यादा गाने लिखे हैं.

भारतीय सिनेमा में समीर के इस महत्वपूर्ण योगदान में आज एक और उपलब्धि तब जुड़ गई जब समीर का नाम सबसे ज्यादा गाने लिखने के कारण गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स की किताब में दर्ज हुआ है.

मुंबई के एक पंचसितारा होटल में आयोजित एक कार्यक्रम में समीर को इस अचीवमेंट का सर्टिफिकेट भी प्रदान किया गया.

हालांकि बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में इससे पहले इस तरह की कोई कैटेगरी नहीं थी, लेकिन वर्ल्ड रिकॉर्ड्स की टीम ने पाया की समीर ने भारत में अब तक सबसे ज्यादा गीत लिखे हैं और उसके बाद गिनीज बुक में समीर को सम्मानित करने के लिए विशेष तौर पर इस नई कैटेगरी को बनाया.

अल्फाज को गीतों में पिरोने की जादूगरी समीर को अपने पिता और मशहूर गीतकार अंजान (लालजी पांडेय) से विरासत में मिली थी.

बनारस के पक्के महाल की गलियों में पले-बढ़े समीर ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय के कामर्स संकाय से एम.कॉम की डिग्री ली.

इसके बाद समीर सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में नौकरी करने लगे. लेकिन कलम थी कि मानती ही न थी सो समीर ने बैंक की नौकरी को अलविदा कहते हुए साल 1980 में मुंबई का रूख किया.

समीर को पहला ब्रेक मिला साल 1983 में फिल्म 'बेखबर' से. इसके बाद भी समीर को बॉलीवुड में पैर जमाने के लिए काफी लंबा संघर्ष करना पड़ा.

काफी प्रयासों के बाद समीर को साल 1989 में फिल्म 'दिल' से सफलता मिली और साल 1990 में आई फिल्म 'आशिकी' ने समीर को इंडस्ट्री के सफल गीतकारों की श्रेणी में ला खड़ा किया.

इसके बाद तो समीर की कलम से निकले एक से बढ़ कर एक गीत सेल्युलाइड पर फिल्माये गये. समीर को लगातार दो बार साल 1993 और साल 1994 में फिल्म फेयर अवॉर्ड मिला.

उन्हें पहली बार साल 1993 में फिल्म 'दिवाना' के गीत 'तेरी उम्मीद तेरा इंतजार करते हैं' के लिए यह सम्मान मिला था और उसके अगले साल फिल्म 'हम हैं राही प्यार के' के गीत 'घुंघट की आड़ में दिलबर का' के लिए दूसरी बार यह पुरस्कार मिला.

यहां हम पेश कर रहे हैं समीर के 10 एवरग्रीन सुपरहिट गीत... 

1. फिल्मः आशिकी(1990)

'तू मेरी जिंदगी है... तू मेरी हर खुशी है'

2. फिल्म: दलाल(1993)

'ठहरे हुए पानी में कंकड़ न मार सांवरे'

3. फिल्म: वंश(1992)

'आके तेरी बाहों में हर शाम लगे सिंदूरी'

4. फिल्म: बोल राधा बोल(1992)

'बोल राधा बोल तूने ये क्या किया'

5. फिल्म: दिवाना(1992)

'तेरी उम्मीद तेरा इंतजार करते हैं'

6. फिल्म: अंजाम (1994)

'अठरह बरस की कंवारी काली थी, घूँघट में मुखड़ा छुपाके चली थी'

7. फिल्म: दबंग-2(2013)

'दगाबाज रे.. तोरे नैना बड़े दगाबाज रे'

8. फिल्म: साजन (1992)

'मेरा दिल भी कितना पागल है, ये प्यार जो तुमसे करता है'

9. फिल्म: राजा हिंदुस्तानी (1997)

'परदेसी-परदेसी जाना नहीं... मुझे छोड़ के'

10. फिल्म: धड़कन (2001)

'तुम दिल की धड़कन में रहती हो'

First published: 17 February 2016, 23:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी