Home » मनोरंजन » padmavati controversy: prasoon joshi angry to filmmakers over private screening of film, says its Disappointing that film screened for media
 

प्रसून जोशी: सेंसर बोर्ड को दिखाए बिना पद्मावती की मीडिया के लिए स्‍क्रीनिंग निराशाजनक

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 November 2017, 15:07 IST

फिल्म "पद्मावती" को लेकर विवाद लगातार गहराता जा रहा है. करणी सेना और राजपूत समुदाय द्वारा फिल्म के विरोध के बीच सेंसर बोर्ड भी फिल्म के निर्माताओं से नाराज हो गया है. सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने बयान जारी कर कहा है,

" ये बेहद निराशाजनक है कि सेंसर बोर्ड को दिखाए बगैर या उसके प्रमाणित किए बिना ही पद्मावती फिल्म की मीडिया के लिए स्क्रीनिंग हो रही है, नेशनल चैनल्स पर उसकी समीक्षा हो रही है."

प्रसून जोशी ने फिल्म निर्मताओं की हरकत पर नाराजगी जताते हुए कहना कि "फिल्‍म के निर्माता से जरूरी दस्‍तावेज मांगे गए हैं. उनके आवेदन में ये कहीं नहीं लिखा गया कि ये फिल्‍म काल्‍पनिक है या ऐतिहासिक. इसमें दिया गया आवेदन अधूरा था, इसलिए वापस लौटा दिया गया. जिस तरह सेंसर बोर्ड को निशाना बनाया जा रहा है ये सरप्राइज करने वाला है."

प्रसुन जोशी ने आगे कहा कि एक तरफ हम पर दवाब बनाया जा रहा है कि फिल्म को रिलीज करने के लिए प्रक्रिया में तेजी लाए और जिम्मेदारी से काम करें वहीं दूसरी तरफ प्रकिया को दूसरी तरफ मोड़ा जा रहा है. ये एक अवसरवादी रवैया है.  हम आपको बता दें कि फिल्‍म पद्मावती के निर्माता द्वारा की गई प्राइवेट स्‍क्रीनिंग में इंडिया टीवी के एडिटर इन चीफ रजत शर्मा औऱ रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अरनब गोस्वामी समेत कुछ खास लोगों को बुलाया गया था.

इसके बाद शुक्रवार रात इंडिया टीवी के एडिटर इन चीफ रजत शर्मा ने कहा कि फिल्‍म का कोई भी सीन राजस्‍थान के लोगों या राजपूतों की आन-बान-शान के खिलाफ नहीं है. उन्‍होंने अपने प्राइम टाइम शो में कहा, " फिल्‍म देखने के बाद मैं दावे से कह सकता हूं कि कोई नहीं कह पाएगा कि पूरी फिल्‍म की थीम में कुछ ऐसा है कि हमारे गौरवशाली राजपूती इतिहास के खिलाफ हो." 

गौरतलब है कि राजस्थान में 'पद्मावती' फिल्म का विरोध कर रही श्री राजपूत करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने अभिनेत्री दीपिका पादुकोण को बयानबाजी करने पर नाक काटने की धमकी दी है. 'पद्मावती' फिल्म 1 दिसंबर को भारत में रिलीज होने वाली है. करणी सेना की ओर से फिल्म की रिलीज के दिन भारत बंद का एलान किया गया है.

गुरुवार को श्री राजपूत करणी सेना के सदस्य महिपाल सिंह मकराणा ने एक वीडियो के जरिये कहा है कि राजपूतों ने कभी नारियों पर हाथ नहीं उठाया लेकिन अगर जरूरत पड़ी तो वह दीपिका के साथ वैसा की करेंगे जैसे लक्ष्मण ने शूर्पनखा के साथ किया था.

इससे पहले फिल्म की शूटिंग के दौरान श्री राजपूत करणी सेना के सदस्यों ने जयपुर में भंसाली पर हमला कर उन्हें शारीरिक चोट भी पहुंचायी थी. पार्टी के सदस्यों ने महाराष्ट्र में फिल्म के सेट में आग के हवाले कर दिया था. राजपूत समुदाय के पक्ष में कई संगठन, राजनीतिक दल और लोग भी इस बात को लेकर पद्मावती की रिलीज का विरोध कर रहे हैं कि फिल्म में रानी पद्मावती के बारे में जो कहानी बुनी गयी हैं उसमें ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़मराड़ पेश किया गया है.

हालांकि फिल्म के डॉयरेक्टर संजयलीला भंसाली ने अपनी ओर से साफ किया है कि फिल्म में राजपूत समुदाय राजपूत समुदाय की कोई बुराई नहीं की गई है. साथ ही, सभी धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखा गया है. फिल्म पद्मावती में शाहिद कपूर और रणवीर सिंह भी मुख्य भूमिका में हैं. इस फिल्म को सीबीएफसी की हरी झंडी का अभी इंतजार है.

First published: 18 November 2017, 15:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी