Home » मनोरंजन » Sonam Kapoor trolled over national anthem comment campaign, ‘Let’s Talk About Trolls’ know truth about all
 

क्या सोनम कपूर को सच में नहीं आता राष्ट्रगान? ट्रोल करने वालों पहले सच जान लो...

ऋचा मिश्रा | Updated on: 22 April 2017, 9:43 IST

सोनम कपूर आए दिन किसी न किसी कारण चर्चा में रहती हैं. अभी कुछ दिन पहले एक्टर अभय देओल को फेयरनेस क्रीम पर दिए जवाब पर उन्हें खूब ट्रोल किया गया था अब एक बार फिर ट्विटर पर निशाना बनाया गया है. सोनम को उनके लिखे ब्लॉग के कारण लोगों के गुस्से का शिकार होना पड़ा.

सोनम ने एक अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स के लिए कॉलम लिखा था जिसमें उन्होंने सोशल मीडिया पर होने वाले ट्रोल्स को जवाब दिया था. उन्होंने कहा था कि सोशल मीडिया एक अच्छी जगह है लेकिन ट्रोल्स सेक्सिस्ट और जजमेंटल होते हैं. 'लोग मानते हैं कि हम सुंदर दिखते हैं और अच्छे कपड़े पहनते हैं तो लोगों को लगता है कि हमारे पास दिमाग नहीं है. शुक्र है कि मैं खुद में कंफर्टेबल हूं.'

सोनम ने अपने ब्लॉग में आगे लिखा कि उन्हें भारतीय होने पर गर्व है. 'मैं अपने देश से बहुत प्यार करती हूं लेकिन लोगों की तरह मैं कट्टर नहीं हूं. क्योंकि मैं सवाल करती हूं तो मैं एंटी-नेशनल बन जाती हूं. एक बार फिर से राष्ट्रीय गान सुनिए. बचपन में सुनी उस लाइन को याद करिए जिसमें लिखा था, 'हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई..'

सोनम की इस बात पर ट्विटर जमकर उनकी खिंचाई कर रहा है. किसी ने सोनम को हिदायत दे डाली की वह खुद एक बार राष्ट्रीय गान को दोबारा सुनें. वहीं किसी ने उनसे सवाल पूछा कि सोनम कौन से राष्ट्रीय गान की बात कर रही हैं.

मामले का पूरा सच: 
दरअसल, भारत के राष्ट्रगान 'जन-गण-मन' में 'हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई' लाइन ही नहीं है. ये लाइन राष्ट्र गान में नहीं आती हैं. हालांकि ये लाइन स्कूली दिनों में आपने सुनी या कही ज़रूर होगी. हालांकि सोनम कपूर का लेख अगर पूरा पढ़ें, तो वहां मामला साफ होता है. सोनम लेख में लिखती हैं, 'एक बार फिर राष्ट्रगान सुनिए. बचपन में सुनी वो लाइन याद कीजिए- हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई.' ऊपर लिखे दोनों वाक्यों के बीच एक फुल स्टॉप है. जो दोनों वाक्यों को अलग करता है. इस फुल स्टॉप को देखना और फिर स्टॉप होना ट्रोलर्स भूल गए.

First published: 22 April 2017, 9:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी