Home » मनोरंजन » Yo Yo Honey Singh revealed he was Bipolar & Alcoholic. Took treatment for 18 months
 

किस दिमागी बीमारी के चलते डेढ़ साल गायब रहे यो यो हनी सिंह

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 March 2016, 20:10 IST

युवाओं के पसंदीदा रैपर यो यो हनी सिंह ने मंगलवार को अपने 33वें जन्मदिन पर एक बड़ा खुलासा किया है. बीते डेढ़ साल तक इंडस्ट्री से दूर रहकर गुमनामी की जिंदगी जीने वाले हनी सिंह ने बताया कि वो दिमागी समस्या का इलाज करा रहे थे.

अपने जन्मदिन के मौके पर एक इंटरव्यू के दौरान रैपर, म्यूजिक प्रोड्यूसर, गायक और अभिनेता हनी सिंह ने खुलासा किया कि वो इस दौरान नोएडा स्थित अपने घर में रह रहे थे. वे अल्कोहलिज्म और बाईपोलर डिसऑर्डर (दिमागी बीमारी या मेंटल डिसऑर्डर) का इलाज करा रहे थे. इस दौरान उन्होंने चार डॉक्टर भी बदले. दवाएं काम नहीं कर रही थीं और हालात बिगड़ते जा रहे थे. 

पढ़ेंः इसलिए मॉडल्स रैंप पर चलते वक्त मुस्कुराती नहीं हैं

इस दौरान मीडिया में हनी सिंह को लेकर तमाम खबरें भी आईं. कोई कह रहा था कि वो ज्यादा ड्रग लेने के चलते रिहैबिलिटेशन सेंटर में इलाज करा रहे हैं. तो कोई कह रहा था कि शाहरुख खान से विवाद के बाद उन्हें इंडस्ट्री में काम नहीं दिया जा रहा, जिससे वो खुद दूर चले गए हैं. 

अपने इंटरव्यू में हनी सिंह ने बताया कि अल्कोहलिज्म और बाईपोलर डिसऑर्डर के इलाज के दौरान करीब 50 कविताएं भी लिख डालीं. अब उन कविताओं को प्रकाशित करवाना है. उन्होंने अपने डिसऑर्डर का जिक्र करते हुए बताया कि शाम होते ही वह अपने परिवार को देखकर डरने लगते थे.

अपने प्रशंसकों को संदेश देते हुए यो यो का कहना था कि उन्हें देखना चाहिए कि कैसे वो मुश्किलों का सामना करते हुए एक विजेता के रूप में सामने आए हैं. 

पढ़ेंः यो यो हनी सिंह ने नैनो कार से की रैपर बादशाह की तुलना

गौरतलब है कि मिर्ची म्यूजिक अवार्ड शो के दौरान हनी सिंह ने रैपर बादशाह की तुलना नैनो कार से की थी. वैसे आजकल हनी सिंह अपनी आने वाली फिल्म जोरावर के चलते थोड़ा व्यस्त हैं. इस फिल्म में वो एक्शन करते नजर आएंगे. 

बाइपोलर डिसऑर्डर

इसे मानसिक विकार भी कहा जाता है. इससे ग्रस्त व्यक्ति पर इसका असर कई सप्ताह या महीनों या सालों तक रह सकता है. एक शोध के मुताबिक हर 100 में से 1 व्यक्ति इससे ग्रसित होता है. 

इसके लक्षणों में दुखी रहना, ऊर्जा में कमी, इच्छा में कमी, आत्मविश्वास में कमी, मरने की इच्छा और नाउम्मीद होना शामिल है. वहीं, उन्माद के लक्षणों में बहुत अधिक खुशी, नींद में कमी, ज्यादा बोलना, जोखिम लेना, अति आत्मविश्वास, बेतहाशा खर्च आदि शामिल है. आमतौर पर यह किशोरावस्था या उसके बाद पुरुषों और महिलाओं को समान रूप से प्रभावित करता है.

पढ़ेंः अमिताभ बच्चन की को स्टार का हुआ था यौन शोषण

First published: 15 March 2016, 20:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी