Home » एन्वायरमेंट » A looming catastrophe: climate change to claim 1,30,000 lives in India in 2050
 

2050 तक भारत में जलवायु परिवर्तन से हो सकती हैं 1 लाख 30 हजार मौतें

शौर्ज्य भौमिक | Updated on: 13 July 2016, 9:13 IST
130,000
मौतें

भारत में 2050 तक जलवायु परिवर्तन के चलते हो सकती हैं

दुनियाभर के पर्यावरण में जलवायु परिवर्तन अराजकता पैदा कर रहा है. यह ऐसी बात है जो हम करोड़ों बार सुन चुके हैं. 

लेकिन क्या हमने कभी इसके प्रभाव के बारे में विचार किया है कि भारत में आने वाले वक्त में इससे कितने लोगों की जान जा सकती है? मेडिकल जर्नल लैंसेट में छपी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा की गई एक ताजा शोध यह बताती है कि क्या होने वाला है.

देखिए इस रिपोर्ट के मुख्य बिंदुः

130,000

  • लोगों की भारत में 2050 तक जलवायु परिवर्तन के चलते मौत हो सकती है.
  • कारणः कृषि उत्पादन में कमी के चलते खुराक और शारीरिक वजन में उतार-चढ़ाव.

529,000

  • लोगों की दुनिया भर में 2050 तक इन्हीं कारणों के चलते मौत होगी.
  • इसका मतलब कि जलवायु परिवर्तन से होने वाली हर 4 वैश्विक मौतों में से एक भारत में होगी.

19
लाख

  • लोगों की मौत को टाला जा सकता है अगर पर्याप्त कृषि उत्पादन हो. 
  • ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ पॉपुलेशन हेल्थ में पोस्ट डॉक्टोरल रिसर्चर मैर्को स्प्रिंगमैन कहते हैं, "खाद्य उपलब्धता और खानपान में परिवर्तन से खुराक और वजन संबंधी जोखिम होंगे. फल-सब्जी, रेड मीट में कमी और ज्यादा शारीरिक वजन इसके प्रमुख कारक हैं. इन सभी से हृदयरोग, कैंसर जैसी बीमारियों के बढ़ने के साथ ही इनसे जुड़ी अन्य बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाएगा."

4
फीसदी

  • औसतन कम सब्जियां शामिल होंगी 2050 तक लोगों की खुराक में.
  • खुराक में सब्जियों की औसतन कमी के बाद फल (3.2 फीसदी) और रेड मीट (0.7 फीसदी) में कमी आएगी.

2

  • मुल्क यानी ग्रीस और इटली जलवायु परिवर्तन से सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे क्योंकि यहां प्रतिव्यक्ति खाद्य उत्पादन कम होगा.

निश्चित तौर पर आंकड़ों के मामले में चीन और भारत में इसके सबसे बुरे प्रभाव होंगे.

First published: 13 July 2016, 9:13 IST
 
शौर्ज्य भौमिक @sourjyabhowmick

संवाददाता, कैच न्यूज़, डेटा माइनिंग से प्यार. हिन्दुस्तान टाइम्स और इंडियास्पेंड में काम कर चुके हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी