Home » एन्वायरमेंट » Corona Virus Outbreak: Colorado State University forecasters expect world is in danger of these storms this year
 

कोरोना वायरस के बाद इस साल दुनिया पर मंडरा रहा है इन समुद्री तूफानों का खतरा

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 April 2020, 10:11 IST

Weather Forecast of Colorado State University: इस साल के शुरु से ही कोरोना वायरस (Corona Virus) पूरी दुनिया पर किसी प्राकृतिक आपदा (Natural Calamity) की तरह टूट पड़ा है. इससे अब तक करीब 60 हजार लोगों की जान जा चुकी है और करीब 11 लाख लोग संक्रमित (Infected) हो गए हैं और अभी भी पूरी दुनिया को कोरोना की कितनी मार झेलनी पड़ेगी कोई नहीं जानता. इससे पहले पूरी दुनिया को परेशानी में डालने वाली एक और बड़ी भविष्यवाणी (Forecast) सामने आई है. जिसके मुताबिक, इस साल दुनियाभर (Worldwide) में कई समुद्री तूफान (Hurricane) तबाही मचा सकते हैं. यानी कोरोना की महामारी से निपटने से पहले ही दुनिया को कई और प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ सकता है.

दरअसल, अमेरिका की कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी के मौसम विज्ञानियों ने इस साल दुनियाभर में 16 से ज्यादा समुद्री तूफान आने का पूर्वानुमान लगाया है. मौसम वैज्ञानियों के मुताबिक, इनमें आठ हरिकेन भी शामिल हैं. इन आठ में से चार तूफान बेहद खतरनाक और शक्तिशाली होंगे. विशेषज्ञों का कहना है कि, हमें इस साल फिर से बड़ी गतिविधियां होने के संकेत मिले हैं. मौसम विज्ञानी फिल क्लॉटजबेक का कहना है कि, हमारा अनुमान है कि 2020 में अटलांटिक बेसिन हरिकेन मौसम की गतिविधि सामान्य से ऊपर होगी. उनका कहना है कि जिन हरिकेन तूफान की श्रेणी 3 से 5 होगी, वो बड़े तूफान बन जाएंगे. इनसे करीब 111 मील प्रति घंटे और इससे अधिक गति की तेज हवाएं चलेंगी. पूर्वानुमान के मुताबिक, ये तूफान 1 जून से 30 नवंबर के दौरान हरिकेन मौसम के दौरान आने की संभावना है.


मौसम विज्ञानी फिल लॉटजबेक का कहना है कि, इन बड़े तूफानों से भूस्खलन होने के संकेत भी मिले हैं. उनके मुताबिक, इस साल कम-से-कम एक बड़े तूफान से अमेरिका के तटों के पास 69 फीसदी भूस्खलन होने की संभावना है. उनका कहना है कि हालांकि, पूर्वानुमान में सटीक रूप से यह अनुमान नहीं लग पाया है कि तूफान कहां पर हमला कर सकते हैं और किसी स्थान पर भू-स्खलन की संभावना कम है. क्लॉटजबेक और अन्य विशेषज्ञों का कहना है कि अटलांटिक बेसिन में हर साल औसतन 12 उष्णकटिबंधीय तूफान होते हैं, जिनमें से छह हरिकेन होते हैं.

जानिए क्या होता है हरिकेन- बता दें कि हरिकेन एक प्रकार का तूफान है, जिसे उष्णकटिबंधीय चक्रवात भी कहा जाता है. ये तूफान बहुत शक्तिशाली और विनाशकारी होते हैं. इनकी उत्पत्ति अटलांटिक बेसिन में होती है. वैज्ञानिकों का कहना है कि एक उष्णकटिबंधीय तूफान तब एक हरिकेन बन जाता है, जब इसकी हवा की 74 मील प्रति घंटे तक पहुंच जाती है. इसकी तीव्रता को सैफिर-सिंपसन हरिकेन विंड स्केल से मापा जाता है.

ये हैं इस साल आने वाले शक्तिशाली तूफान- इस साल दुनियाभर में जो समुद्री तूफान आएंगे उन्हें मौसम वैज्ञानियों ने आर्थुर , बेरथा, क्रिस्टोबल, डॉली, एडुअर्ड, फे, गोंजालो, हन्ना, इजाइअस, जोसफिन, केली , लौरा, मार्को , नाना, ओम , पौलेट, रेने, सैली, टेडी, विक्की, विल्फ्रेड नाम दिए हैं जो कोरोना वायरस की महामारी के बाद दुनिया को बुरी तरह से प्रभावित कर सकते हैं.

कोरोना वायरस: दुनियाभर में 59 हजार से ज्यादा मौतें, अमेरिका में एक दिन में 1,321 लोगों की गई जान

12 साल बाद चीन मनाएगा राष्ट्रीय शोक दिवस, जानिए 4 अप्रैल को क्या करने जा रहा है

लॉकडाउन के उल्लंघन पर फिलीपींस के राष्ट्रपति सख्त, बोले- ना मानने वालों को मार दी जाएगी गोली

First published: 4 April 2020, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी