Home » एन्वायरमेंट » Cyclonic Kyarr effect weather changes again in Madhya Pradesh heavy rain may occur in 32 district
 

चक्रवाती तूफान ने फिर बदला मौसम का मिजाज, यहां हो सकती है भारी बारिश

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 October 2019, 10:18 IST

मानसून के जाने के बाद एक बार फिर से भारी बारिश होने की आशंका है. दरअसल, अरब सागर के उठे चक्रवाती तूफान क्यान के चलते देशभर में फिर से मौसम का मिजाज बदल गया है. केरल, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और गुजरात के कई हिस्सों में भारी बारिश ने जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया. वहीं अब मध्यप्रदेश और यूपी के कुछ हिस्सों में तेज बारिश का अनुमान है. सोमवार-मंगलवार की रात राजधानी भोपाल सहित कई जिलों में भारी बारिश हुई. मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आने वाले 24 घंटों में राज्य के करीब 32 जिलों में भारी बारिश हो सकती है.

मौसम के मुताबिक, नवंबर के पहले सप्ताह से तापमान में अधिक गिरावट आएगी. हालांकि, अभी चक्रवाती तूफान 'क्यार' का असर खत्म नहीं हुआ है और इसका असर अगले एक-दो दिन तक धीरे-धीरे कमजोर होगा. बता दें कि मध्यप्रदेश के 32 जिलों में अब भी बादल छाए हुए हैं और बारिश का दौर जारी है.

मौसम विभाग के मुताबिक, कई जिलों में बारिश या गरज के साथ बारिश होने की संभावना है. जहां बारिश होने की बात कही जा रही है उनमें भोपाल, रायसेन, राजगढ़, विदिशा, सीहोर, धार, इंदौर, खंडवा, खरगौन, अलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, बुरहानपुर, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, उज्जैन, नीमच, रतलाम, शाजापुर, देवास, आगर, मंदसौर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, नरसिंहपुर, जबलपुर, मंडला, कटनी, अनूपपुर, डिंडोरी जिले शामिल हैं. मौसम विभाग के मुताबिक इन जिलों में शुक्रवार यानी एक नवंबर तक बारिश हो सकती है.

इसके अलावा मौसम विभाग ने कहा है कि गुना, अशोकनगर, दतिया, ग्वालियर, शिवपुरी, सागर, रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली, उमरिया, शहडोल, टीकमगढ़, पन्ना, छतरपुर, दमोह, श्योपुरकलां, मुरैना और भिंड जिलों में मौसम शुष्क रहेगा. वहीं राज्य में पिछले 24 घंटों में जबलपुर, शहडोल, इंदौर और होशंगाबाद संभागों के जिलों में बारिश दर्ज की गई है. वहीं ग्वालियर और दमोह में सबसे अधिक तापमान दर्ज किया गया है. यहां 33 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया.

बता दें कि अक्टूबर के महीने में मौसम में इस तरह का बदलाव साल 1985 के बाद देखने को मिला है. तब अक्टूबर के महीने में 230 मिमी बारिश दर्ज की गई थी. जबकि रविवार को हुई बरसात के बाद इस साल अक्टूबर महीने में पोस्ट मानसून की बरसात हो चुकी है. जबकि भोपाल में अब तक अक्टूबर महीने में केवल 11.5 मिमी बारिश हुई है.

चेन्नई में 8 घंटे से हो रही है बारिश, स्कूल- कॉलेज किये गए बंद

अभी भी तबाही मचा सकता है चक्रवाती तूफान क्यार, इस दिन तक होगा कमजोर

दिल्ली एनसीआर में खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण, पटाखों ने और बढ़ा दी परेशानी

First published: 30 October 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी