Home » एन्वायरमेंट » Delhi-NCR enveloped in smog, air quality is poor, visibility drop,traffic disturb
 

दिल्ली-एनसीआर में धुंध से बुरा हाल, ज़हरीली हवा में सांस लेना हुआ मुश्किल

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 November 2017, 11:31 IST

दिल्ली-एनसीआर मंगलवार सुबह से ही जहरीली धुंध की चादर में लिपटा हुआ है. दिल्ली एनसीआर के कई इलाके में हालात बदतर हो गए है और लोगों को काफी समस्या का सामना कर पड़ रहा है. बुजुर्ग और बच्चों पर इसका सबसे ज्यादा असर पड़ रहा है. धुंध की वजह से पूरे दिल्ली में सोमवार को जिबिलिटी घटकर 500 मीटर हो गई थी जो मंगलवार सुबह से ही और भी कम है. इसका सीधा असर ट्रैफिक पर पड़ा है. लोगों को ऑफिस और दूसरी जगहों में जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इस समय दिल्ली में एयर क्वालिटी काफी खराब हो चुकी है और वायु प्रदूषण स्तर भी खतरनाक हो गया है. मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, अगले 4-5 दिनों तक इस स्थिति में सुधार की कोई उम्मीद नहीं है.

दिल्ली एनसीआर में घने कोहरे और धुंध के कारण रेल एवं सड़क यातायात बुरी तरह प्रभावित हुई. करीब 12 ट्रेनें अपने निर्धारित समय की देरी से चल रही हैं. दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदूषण को देखते हुए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने दिल्ली सरकार को खत लिखा है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने केजरीवाल सरकार से अपील की है कि वह स्कूलों मेें होने वाले आउटडोर गेम्स पर रोक लगाए. इसके अलावा मॉर्निंग वॉक करने वाले लोगों से भी कुछ दिन रूकने की अपील की गई है

सोमवार शाम से दिल्ली के बढ़े हुए प्रदूषण के बाद मंगलवार को ‌इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को खत लिखकर 19 नवंबर को होने वाली एयरटेल दिल्ली हाफ मैराथन को रद्द करने को कहा है. कई विशेषज्ञों का कहना है कि इस खराब एयर क्वॉलिटी के लिए पड़ोसी राज्य पंजाब, हरियाणा में पराली जलाए जाने को कारण नहीं माना जा सकता, क्योंकि पंजाब में चल रहीं हवाओं का रुख दिल्ली की ओर नहीं था.

राजधानी दिल्ली के कई इलाकों में एयर क्वालिटी बेहद खराब हो गई है. दिल्‍ली के लोधी रोध इलाके में वायु प्रदूषण पीएम 2.5 और पीएम 10 की स्थिति बेहद खराब श्रेणी में रही. नोएडा और गाजियाबाद में एयर क्वालिटी इंडेक्स 400 के पार पहुंच गया है. अगर वायु की क्वालिटी में सुधार नहीं आया और स्थिति बेहतर नहीं हुई तो स्कूलों को बंद किया जा सकता है.  एयर क्वालिटी इंडेक्स का स्तर 450 होने पर बच्चों की सेहत को ध्यान में रखते हुए स्कूलों को कुछ दिन के लिए बंद करना पड़ सकता है.

First published: 7 November 2017, 11:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी