Home » एन्वायरमेंट » Donald Trump-India Contributing Nothing to One-sided Paris Climate Deal
 

पेरिस समझौते पर ट्रंप भड़के, कहा- सबसे ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाले भारत का कोई योगदान नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 May 2017, 13:59 IST

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पेरिस जलवायु समझौते को लेकर भारत पर बड़ा निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि पेरिस समझौता एकतरफा है. उन्होंने आरोप लगाया कि पेरिस समझौते के अंतर्गत अमेरिका को अनुचित तरीके से निशाना बनाकर धन देने के लिए कहा जा रहा है, जबकि सबसे ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाले देश इसमें कुछ भी योगदान नहीं कर रहे हैं. 

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वो जल्द ही इस पर कोई बड़ा फैसला लेंगे. ट्रंप ने आरोप लगाया कि एकतरफा पेरिस जलवायु समझौते की तरह, जहां अमेरिका ने अरबों डालर दिये. संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन फ्रेमवर्क संधि के तहत पेरिस जलवायु परिवर्तन समझौते पर वर्ष 2015 में 194 देशों ने हस्ताक्षर किये और इसे 143 ने अनुमोदित किया. ट्रंप ने दावा किया कि इस समझौते के अनुपालन से अमेरिकी जीडीपी दस वर्ष में 2500 अरब डालर कमजोर हो जाएगी.

क्या है पेरिस समझौता
जलवायु परिवर्तन के खतरे से निपटने और वैश्विक तापमान में बढ़ोत्तरी को दो डिग्री सेल्सियस तक नीचे लाने के लिए यह समझौता किया गया था. इसके तहत ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए कदम उठाने पर सहमति बनी थी.

पेरिस में 197 देशों ने जलवायु परिवर्तन समझौते को स्वीकार किया था. इसके तहत जलवायु परिवर्तन से निपटने में विकसित देशों की ओर से विकासशील देशों की मदद के लिए साल 2020 से 100 अरब डॉलर हर साल देने की प्रतिबद्धता जताई गई. 

ट्रंप ने अमेरिका के राष्ट्रपति पद पर सौ दिन पूरे होने के मौके पर अपने भाषण में कहा कि मैं अगले दो सप्ताह में पेरिस समझौते पर बड़ा फैसला करूंगा और हम देखते हैं कि क्या होता है.
First published: 1 May 2017, 13:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी