Home » एन्वायरमेंट » IMD issues new weather updates extremely severe cyclonic storm Maha for Maharashtra and Gujarat
 

चक्रवाती तूफान महा का अभी खत्म नहीं हुआ असर, मौसम विभाग ने जारी किया नया अलर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 November 2019, 10:21 IST

चक्रवाती तूफान महा का खतरा अभी टला नहीं है. तूफान महा का खतरा अभी गुजरात और महाराष्ट्र पर अगले तीन दिनों तक बने रहने की आशंका है. केंद्र सरकार ने गुजरात और महाराष्ट्र में चक्रवाती तूफान महा को लेकर चल रही तैयारियों की उच्चस्तरीय समीक्षा की है. उसके बाद केंद्र सरकार ने कहा है कि दोनों राज्यों में अभी तूफान का खतरा कम नहीं हुआ है.

यहां अगले तीन दिनों तक 100 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवाएं चलती रहेंगीं और भारी भारी होने की भी आशंका का है. वहीं भारतीय मौसम विभाग ने कहा है कि चक्रवाती तूफान महा 6-7 नवंबर को गुजरात, महाराष्ट्र, दमन-दीव और दादरा-नागर हवेली में तेजी से सक्रिय रहेगा. जिसके चलते मौसम विभाग ने मछुआरों को 6 नवंबर तक समुद्र में मछलियां ना पकड़ने को कहा है.

बता दें कि सोमवार को चक्रवात के खतरों से निपटने के लिए कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (NCMC) की बैठक हुई. जिसमें संबंधित विभागों के सभी अधिकारी शामिल हुए. अधिकारियों के मुताबिक, चक्रवात का असर गुजरात, महाराष्ट्र और दमन दीव पर होने का अनुमान है.

चक्रवात वाले इलाकों में नौसेना के जहाज तैनात किए गए हैं. सात नवंबर को चक्रवात गुजरात और महाराष्ट्र तट को पार करेगा. इस बैठक में मौजूद गुजरात और महाराष्ट्र सरकार के मुख्य सचिवों ने बताया कि उन्होंने चक्रवात तूफान महा से निपटने की आवश्यक तैयारी कर ली हैं.

इसके अलावा NDRF और SDRF की टीमों के साथ तटरक्षक बल और नौसेना के जहाजों को तैनात कर दिया गया है. वहीं सभी जिलों के जिलाधिकारियों को अलर्ट पर रखा गया है. इसके साथ ही समुद्र में मछली पकड़ने की सभी तरह की गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है. वहीं दमन और दीव प्रशासन ने भी इसी तरह की तैयारियां कर ली हैं. इस बैठक में गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के साथ-साथ IMD, NDMA और NDRF के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए.

वहीं मौसम विभाग का कहना है कि यह चक्रवात तूफान महा वर्तमान में अरब सागर में पश्चिम और उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा है. इसके पांच नवंबर के शाम तक तेज होने की संभावना है. वहीं छह नवंबर की आधी रात और सात नवंबर की सुबह तक यह चक्रवात गुजरात और महाराष्ट्र तट को पार कर जाएगा. साथ ही यहां डेढ़ मीटर ऊंची ज्वार की लहरों के साथ भारी बारिश होने की संभावना है.

मौसम विभाग का कहना है कि गुजरात पहुंचने से पहले चक्रवात महा के कमजोर होने की संभावना है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा था कि सात नवंबर से पहले ये द्वारका और केंद्र शासित प्रदेश दीव के क्षेत्रों में चक्रवाती तूफान दस्तक दे सकता है. वहीं मौसम विभाग के अधिकारियों ने संभावना जता है कि सात नवंबर से पहले ही महा का प्रभाव कम हो सकता है.

ये भी पढ़ें-

फोन से चेक कीजिये अपने इलाके का प्रदूषण, डाउनलोड कीजिये ये एप्स

अरब सागर से उठे खतरनाक चक्रवाती तूफान 'महा' से इन राज्यों में हो सकती है भारी बारिश से तबाही

प्रदूषण के कारण 40 फीसदी लोग छोड़ना चाहते हैं दिल्ली-एनसीआर : सर्वे

First published: 5 November 2019, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी