Home » एन्वायरमेंट » India's NSG membership not on Seoul meet agenda: China
 

चीन: सियोल बैठक में भारत की एनएसजी दावेदारी मुद्दा नहीं

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 June 2016, 14:58 IST

चीन ने सोमवार को कहा है कि दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में होने वाली परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) की बैठक के एजेंडे में भारत की सदस्यता का मुद्दा नहीं है. 48 देशों के समूह वाले एनएसजी की बैठक 24 जून को होने वाली है.

रविवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दावा किया था कि चीन एनएसजी में भारत की सदस्यता का विरोध नहीं कर रहा है. वह बस प्रक्रिया मानदंडों को लेकर चिंतित है. उन्होंने विश्वास जताया कि हम चीन को मनाने में कामयाब रहेंगे.

चीन के विदेश मंत्रालय का बयान

चीन का विदेश मंत्रालय सुषमा स्वराज से अलग राय रख रहा है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि ग्रुप के सदस्यों के बीच न सिर्फ भारत की सदस्यता को लेकर, बल्कि सभी गैर-एनपीटी सदस्यों को शामिल किए जाने को लेकर विचार अलग-अलग हैं.

प्रवक्ता ने कहा कि एनपीटी ही परमाणु अप्रसार का आधार है और चीन का मानना है कि इस मुद्दे पर विस्तृत चर्चा की जरूरत है. उन्होंने कहा, "गैर-एनपीटी सदस्यों को शामिल किया जाना कभी एनपीटी की बैठकों के एजेंडे में नहीं रहा है. इस साल सियोल में ऐसा कोई मुद्दा नहीं है."

सुषमा ने सहमति के दिए थे संकेत

कहा जा रहा था कि सियोल बैठक में भारत के एनएसजी सदस्य बनने पर मुहर लग सकती है. रविवार को सुषमा स्वराज ने भी कहा था कि भारत इस साल के अंत तक एनएसजी का सदस्य बन जाए, इसकी हम कोशिश कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि वह खुद 23 देशों के संपर्क में हैं. इनमें से एक या दो ने कुछ ऐतराज जताए हैं, लेकिन एक सहमति बनती दिख रही है. सुषमा ने कहा कि देश की ऊर्जा नीति के लिए एनएसजी की सदस्यता काफी महत्वपूर्ण है.

गौरतलब है कि एनएसजी पर चीन को मनाने के लिए विदेश सचिव एस जयशंकर 16-17 जून को बीजिंग का दौरा कर चुके हैं.

First published: 22 June 2016, 14:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी