Home » एन्वायरमेंट » India seeks time to implement Paris climate agreement
 

पेरिस समझौते को लागू करने में हड़बड़ी ठीक नहीं: प्रकाश जावड़ेकर

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 April 2016, 18:40 IST
QUICK PILL
  • पेरिस जलवायु समझौते की शर्तों को लागू किए जाने के मामले में अतिरिक्त समय की जरूरत पर बल देते हुए पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि इसे जल्द लागू किए जाने की बहस फिजूल है. 
  • जावड़ेकर ने कहा कि पेरिस जलवायु समझौते की शर्तों को लागू करने के लिए राष्ट्रीय मंजूरी की जरूरत होगी. यह काम हड़बड़ी में नहीं किया जाना चाहिए और सभी देशों को उचित प्रक्रिया के तहत इसे लागू करने का समय मिलना चाहिए.

भारत ने पेरिस जलवायु समझौते को लागू किए जाने में हड़बड़ी से बचने की सलाह दी है. समझौते की शर्तों को लागू किए जाने के मामले में अतिरिक्त समय की जरूरत पर बल देते हुए पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, 'पेरिस समझौते को जल्द लागू किए जाने की बहस फिजूल है. इसे पहले लागू करने की जरूरत समझी जा सकती है लेकिन इसे लागू करने में समय लगेगा.'

जावड़ेकर ने कहा, पेरिस जलवायु समझौते की शर्तों को लागू करने के लिए राष्ट्रीय मंजूरी की जरूरत होगी. उन्होंने कहा कि यह काम हड़बड़ी में नहीं किया जाना चाहिए और सभी देशों को उचित प्रक्रिया केे तहत इसे लागू करने का समय मिलना चाहिए.

पर्यावरण मंत्री ने कहा,' हमें हड़बड़ी नहीं बरतनी चाहिए क्योंकि पेरिस समझौते को 2020 के बाद लागू किया जाना है. इसके अनुमोदन के लिए बहुत समय है और सभी देशों को इस दौरान उनकी राष्ट्रीय प्रक्रियाओं का पालन करने की अनुमति होनी चाहिए.'

भारत ने 22 अप्रैल को पेरिस जलवायु समझौते पर हस्ताक्षर किया. अभी तक 170 से अधिक देश इस पर दस्तखत कर चुके हैं

खबरों के मुताबिक अमेरिका और चीन सभी देशों पर इस समझौते को जल्द से जल्द लागू करने के लिए दबाव बना रहे हैं. 

भारत ने 22 अप्रैल को इस समझौते पर हस्ताक्षर किया. अभी तक करीब 170 से अधिक देश इस समझौते पर दस्तखत कर चुके हैं. 

जावड़ेकर ने कहा, 'पेरिस समझौता मानवता के लिए ऐतिहासिक उपलब्धि है. उन्होंने कहा कि सभी देशों को इसे इमानदारी से लागू करना चाहिए. पेरिस समझौते पर हस्ताक्षर करने कके बाद विकसित देशों को जल्द ही क्योटो प्रोटोकॉल के तहत दूसरी प्रतिबद्धता अवधि को लागू करना चाहिए.' 

First published: 25 April 2016, 18:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी