Home » एन्वायरमेंट » NASA's Ex engineer claims of planting 100 crore trees per year using Drones
 

ड्रोन की मदद से लगाए जाएंगे एक साल में 100 करोड़ पौधे

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2016, 8:10 IST
(बायोकार्बन)

एक कंपनी ने बीड़ा उठाया है कि वो तेजी से कम होते वन्य क्षेत्रों में बेहद तेजी से पौधरोपण करेगी. कंपनी का दावा है कि वो अपने अत्याधुनिक ड्रोनों के जरिये एक साल में 100 करोड़ से ज्यादा पौधे लगाएगी.

द इंडिपेंडेंट में छपी एक खबर की मानें तो बायो इंजीनियरिंग नामक एक कंपनी तकनीकी की मदद से बिना जमीन पर पैर रखे एक साल में 100 करोड़ पौधे लगाना चाहती है.

बायोकार्बन

बता दें कि प्रतिवर्ष दुनिया भर मेे 2,600 करोड़ पेड़ों को जला या काट दिया जाता है और इनके स्थान पर महज 1,500 करोड़ पौधे ही लगाए जाते हैं. अगर यह पहल सफल हुई तो प्रतिवर्ष होने वाली 1,100 पेड़ों की कमी को कुछ हद तक पूरा किया जा सकेगा.

ड्रोन से काफी हद तक वनीकरण (वनों में पौधे लगाने की प्रक्रिया) सही तरीके से किए जा सकते हैं क्योंकि हाथ से पौधरोपण धीमा और महंगा होता है.

कंपनी के सीईओ और नासा के पूर्व इंजीनियर लौरेन फ्लेचर ने कहा, "सदियों पुरानी इस समस्या से निपटने का इकलौता तरीका केवल यह तकनीक है जो पहले हमारे पास नहीं थी. इसके इस्तेमाल से हम संबंधित स्थान की समस्या को भांप सकेंगे."

फेसबुक

पौधरोपण की बायोकार्बन प्रणाली काफी प्रभावशाली है और यह हवा से सूखे बीज छोड़ने की पारंपरिक विधि से काफी बेहतर और तेज है.

कंपनी की इस विधि के अंतर्गत पहले ड्रोन संबंधित स्थान के ऊपर उड़कर इसकी पुनर्स्थापना की क्षमता का आकलन करेंगे. फिर जमीन से दो या तीन मीटर ऊपर उड़ते हुए पॉड्स (बीजकोष) जमीन पर फेंकेगी. इन पॉड्स में पौष्टिक हाइड्रोजेल के भीतर अंकुरित बीज होंगे.

बायोकार्बन

यह तकनीक हाथ से बीज बोने जितनी कारगर नहीं है के सवाल पर फ्लेचर का कहना है कि यह बहुत तेज है. क्योंकि इसके अंतर्गत दो ऑपरेटर्स कई ड्रोन चलाते हैं. फ्लेचर का मानना है कि इससे एक दिन में 36,000 तक बीज बोए जा सकते हैं जो कि पारंपरिक विधि की तुलना में केवल 15 फीसदी कीमत में हो जाएगा. 

यूनाइटेज अरब अमीरात में आयोजित ड्रोन्स फॉर गुड कंपटीशन में इस सिस्टम ने सभी को काफी प्रभावित किया और कंपनी को उम्मीद है कि इन गर्मियों के अंत तक कंपनी पूर्णतया काम करने वाले मॉडल्स बना लेगी. 

First published: 25 May 2016, 8:10 IST
 
अगली कहानी