Home » एन्वायरमेंट » NGT issues order: all diesel vehicles plying for over 10 years banned in Delhi
 

दिल्ली में दस साल से ज्यादा पुरानी डीजल गाड़ियों पर एनजीटी ने लगाया बैन

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:48 IST

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने दिल्ली में 10 साल से ज्यादा पुरानी डीजल गाड़ियों के संचालन पर रोक लगा दी है. डीजल गाड़ियों से बढ़ रहे वायु प्रदूषण की दिशा में इसे बड़ा कदम माना जा रहा है. 

दिल्ली में डीजल गाड़ियों पर प्रतिबंध का यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होगा. प्रदूषण कम करने को लेकर इससे पहले भी एनजीटी कदम उठाता रहा है.

डीजल टैक्सियों पर लगा था बैन

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने भी डीजल टैक्सियों पर सख्त रुख अपनाया था. अदालत ने दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में एक मई से डीजल वाली प्राइवेट टैक्सियों के संचालन पर रोक लगा दी थी. 

पढ़ें: दिल्ली-NCR में एक मई से नहीं चलेंगी डीजल टैक्सियां

अदालत के इस फैसले के खिलाफ टैक्सी ऑपरेटर्स ने दिल्ली और एनसीआर में प्रदर्शन करते हुए कई इलाकों में जाम लगा दिया था. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने ऑल इंडिया परमिट वाली डीजल टैक्सियों को बैन से राहत दे दी है. अदालत ने परमिट खत्म होने तक उन्हें बेरोक-टोक चलाने की छूट दी है.

ऑल इंडिया परमिट वालों को छूट

अपने आदेश में अदालत ने कहा कि ऑल इंडिया परमिट वाली टैक्सियों को सुरक्षा और किराए के नियमों का पालन करना होगा. सुप्रीम कोर्ट ने यह भी साफ किया कि दिल्ली और एनसीआर में किसी भी डीजल कार का टैक्सी के तौर पर नया रजिस्ट्रेशन नहीं होगा. 

पढ़ें: दिल्ली-एनसीआर में ऑल इंडिया परमिट वाली डीजल टैक्सियों को बैन से राहत

कोर्ट ने ये भी कहा कि नई टैक्सियां सिर्फ पेट्रोल या सीएनजी से ही चलेंगी. सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान ये भी कहा कि ऑल इंडिया टूरिस्ट परमिट वाली डीजल टैक्सियों को नया परमिट तभी दिया जाएगा, जब वो शपथपत्र देंगे कि लंबी दूरी के पर्यटन के लिए टैक्सी का इस्तेमाल होगा.

First published: 18 July 2016, 1:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी