Home » एन्वायरमेंट » Sunlight is dim by five times from last 9 thousand years scientist are shocked
 

सूरज की रोशनी में आई पांच गुना कमी, नौ हजार साल से जारी है ये सिलसिला, वैज्ञानिक हैरान

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 May 2020, 11:10 IST

Sunlight decreased by five time: सूरज (Sun) की रोशनी (Light) लगातार कम होती जा रही है. इस बारे में पता चलने पर दुनियाभर के वैज्ञानिकों (Scientist) की चिंता बढ़ गई है. वैज्ञानिकों का कहना है कि सूरज काफी मद्धम हो गया है, जिसकी वजह से इसकी रोशनी पांच गुना तक कम हो गई है. वैज्ञानिक कह रहे हैं कि धरती को सबसे ज्यादा ऊर्जा देने वाला अपना सूरज कम चमक रहा है. उसकी रोशनी में कमी आई है. बताया जा रहा है कि सूरज आकाशगंगा में मौजूद उसके जैसे अन्य तारों की तुलना में काफी ज्यादा कमजोर हो गया है. जर्मनी के मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने इस बारे में दावा किया है. अब वैज्ञानिक ये पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर ऐसा क्यों हुआ?

वैज्ञानिकों का कहना है कि धरती का एकमात्र ऊर्जा स्रोत पिछले 9000 सालों से लगातार दुर्बल होता जा रहा है और इसकी चमक में बहुत कमी आ गई है. मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के केपलर स्पेस टेलीस्कोप से मिले आकंड़ों का अध्ययन करके इस बात का खुलासा किया है. वैज्ञानिकों का कहना है कि हमारी आकाशगंगा में मौजूद सूरज जैसे अन्य तारों की तुलना में अपने सूरज की धमक और चमक फीकी पड़ रही है. वहीं नासा के वैज्ञानिक अभी तक यह नहीं जान पाए हैं कि कहीं ये किसी तूफान से पहले की शांति तो नहीं है.


COVID-19 से लड़ने के लिए नासा ने बढ़ाया कदम, इन उपकरणों का करेगा निर्माण

जूम App को टक्कर देने के लिए गूगल Duo ने पेश किये नए धमाकेदार फीचर्स

मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक डॉ. एलेक्जेंडर शापिरो का कहना है कि हम हैरान हैं अपने सूरज से ज्यादा एक्टिव तारे मौजूद हैं, हमारी आकाशगंगा में हमने सूरज का उसके जैसे 2500 तारों से तुलना की है उसके बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं. सूरज पर ये रिपोर्ट तैयार करने वाले एक अन्य वैज्ञानिक डॉ. टिमो रीनहोल्ड का कहना है कि सूरज पिछले कुछ हजार साल से शांत है. ये गणना हम सूर्य की सतह पर बनने वाले सोलर स्पॉट से कर लेते हैं. लेकिन पिछले कुछ सालों में सोलर स्पॉट की संख्या में भी कमी आई है.

कोरोना वायरस की महामारी के बीच दुनिया पर मंडरा रहा एक और खतरा, वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी

Solar Eclipse 2020: इस दिन लगेगा सूर्य ग्रहण, जानिए सूतक काल और ग्रहण का समय

अभी पिछले साल ही करीब 264 दिनों तक सूरज में एक भी स्पॉट बनते नहीं देखा गया था. बता दें कि सोलर स्पॉट तब बनते हैं जब सूरज के केंद्र से गर्मी की तेज लहर ऊपर उठती है. इससे बड़ा विस्फोट होता है. अंतरिक्ष में सौर तूफान उठता है. ऐसा माना जाता है कि सूरज 4.6 बिलियन साल पुराना है. इस तुलना में 9000 साल कुछ भी नहीं है. 

यूपी में बदल रहा है मौसम का मिजाज, अगले चार दिनों तक बारिश और आंधी की संभावना

मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट ने इस स्टडी में ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ न्यू साउथ वेल्ल और दक्षिण कोरिया के स्कूल ऑफ स्पेस रिसर्च को भी शामिल किया है. इस स्टडी में शामिल डॉ. समी सोलंकी का कहना है कि किसी भी तारे का अपनी धुरी पर घूमना उसके चुंबकीय क्षेत्र की मजबूती को बताता है. चुंबकीय क्षेत्र मजबूत होता है तो तारे के केंद्र और सतह की क्रियाएं सही होती हैं.

उत्तर प्रदेश में आज फिर आंधी और तेज बारिश की चेतावनी, अलगे एक सप्ताह तक खराब रहेगा मौसम

पृथ्वी पर एलियन के आने और दूसरे ग्रहों पर जीवन की क्या है सच्चाई? पेंटागन ने जारी किए वीडियो

First published: 6 May 2020, 11:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी