Home » एन्वायरमेंट » Supermoon 2020: Tonight is the last super flower moon of this Year know where and how to watch
 

Supermoon 2020: इस साल का आखिरी सुपरमून आज, सबसे चमकीला दिखेगा चांद

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 May 2020, 10:10 IST

Super Flower Moon: आज यानी 7 मई को साल का आखिरी सुपरमून (Supermoon) दिखाई देगा. ये सुपरमून शाम सवा चार बजे (04:15 PM) दिखाई देगा. हालांकि भारत (India) में इस शानदार नजारे को नहीं देखा जा सकेगा. क्योंकि इस समय भारत में दिन होगा इसलिए इस नजारे को भारत केे लोग देख नहीं पाएंगे. हालांकि, सुपर फ्लावर मून (Super Flower Moon) का शानदार नजारा आप इंटरनेट (Internet) के माध्यम उठा सकते हैं. आज के बाद ये सुपर मून अगले साल 27 अप्रैल 2021 (27th April 2020) को देखा जा सकेगा.

सुपरमून को सुपर फ्लावर मून, कोर्न प्लांटिंग मून और फूल मिल्क मून के नाम से भी जाना जाता है. सुपरमून को सुपर मिल्क मून इसलिए कहा जाता है क्योंकि ये पूर्णिमा के दिन ही दिखाई देता है. सुपर मून की स्थित में चंद्रमा सामान्य से अधिक बड़ा और ज्यादा चमकीला दिखाई देता है. इस खगोलीय घटना को नंगी आंखों के भी देखा जा सकता है. लेकिन इस बार भारत में सुपरमून को नहीं देखा जा सकेगा.


कोरोना वायरस की महामारी के बीच दुनिया पर मंडरा रहा एक और खतरा, वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी

लखनऊ स्थित इंदिरा गांधी नक्षत्रशाला के वैज्ञानिक अधिकारी सुमित श्रीवास्तव का कहना है कि, 6 मई को सुबह चंद्रमा पृथ्वी के सबसे ज्यादा नजदीक था. इस दिन चंद्रमा की पृथ्वी से दूरी केवल तीन लाख 59 हजार 700 किलोमीटर दूर रह था. चंद्रमा की उस स्थिति को पेरिगी स्थिति कहा जाता है. इस स्थिति से चन्द्रमा काफी बड़ा दिखना शुरू हो जाएगा. मगर सुपर मून को आज यानी सात मई की रात को देखा जाएगा. क्योंकि आज यानी गुरुवार को पूर्णिमा है और इसे शाम 4.15 बजे देखा जा सकेगा.

Solar Eclipse 2020: इस दिन लगेगा सूर्य ग्रहण, जानिए सूतक काल और ग्रहण का समय

नासा (NASA) की वेबसाइट के मुताबिक, भारतीय समयानुसार गुरुवार शाम सवा चार बजे चंद्रमा अपने पूरे चरम पर होगा और पूरी तरह चमकदार दिखाई देगा. इस समय ये पृथ्वी के बहुत नजदीक होगा. लेकिन भारत में दिन होने की वजह से इसे नहीं देखा जा सकेगा. बता दें कि इस इससे पहले सुपरमून 7 अप्रैल 2020 को नजर आया था और इसे सुपर पिंक मून कहा गया था.

पृथ्वी पर एलियन के आने और दूसरे ग्रहों पर जीवन की क्या है सच्चाई? पेंटागन ने जारी किए वीडियो

इन राज्यों में अगले चार दिन तक भारी बारिश और तूफान की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

जानिए क्या होता है सुपरमून

खगोल वैज्ञानिकों के मुताबिक, पृथ्वी का चक्कर लगाने के दौरान एक समय ऐसा आता है, जब चंद्रमा पृथ्वी के सबसे नजदीक होता है. पृथ्वी से ज्यादा नजदीक होने की वजह से चंद्रमा इस दौरान बहुत बड़ा और चमकीला दिखाई देता है. इसी स्थिति को सुपरमून कहा जाता है. आमतौर पर पृथ्वी और चंद्रमा के बीच औसत दूरी 384,400 किलोमीटर होती है. यह सुपरमून के वक्त कम हो जाती है. इस बार धरती से चांद की दूरी 3,59,700 किलोमीटर ही रह जाएगी. सुपरमून की वजह से चांद हर दिन की तुलना में आज 14 प्रतिशत बड़ा और 30 प्रतिशत ज्यादा चमकीला दिखाई देगा.

सूरज की रोशनी में आई पांच गुना कमी, नौ हजार साल से जारी है ये सिलसिला, वैज्ञानिक हैरान

First published: 7 May 2020, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी