Home » एन्वायरमेंट » UP Govt to distribute Bird Nest for World Sparrow Day
 

उत्तर प्रदेश सरकार ने ली गौरैय्या की सुध

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

कंक्रीट के बढ़ते जंगलों के बीच कम होती जा रही गौरैय्या की संख्या और चिंचिआहट को बढ़ाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक बेहतर पहल की है. सरकार ने इसके लिए पूरे प्रदेश में एक लाख चिड़िया घोंसले का वितरण करने की योजना बनाई है. 

उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार आगामी 20 मार्च को विश्व गौरैय्या दिवस पर इस पक्षियों का घर बसाने और इनकी तादाद बढ़ाने का फैसला किया है. इसके लिए राजधानी लखनऊ में एक हजार पक्षी घोंसले (बर्ड नेस्ट) वितरित किए जाएंगे. साथ ही कार्यक्रम के पांच सर्वश्रेष्ठ आयोजकों को मुख्यमंत्री पुरस्कृत भी करेंगे.

World sparrow day 2o March

वन विभाग द्वारा जारी विज्ञप्ति के मुताबिक यह कार्यक्रम स्कूल-कॉलेजों के सहयोग से विभाग द्वारा चलाया जाएगा. लखनऊ स्थित जनेश्वर मिश्र पार्क में विश्व गौरैय्या दिवस का आय़ोजन किया जाएगा. प्रमुख सचिव (वन) ने गौरैय्या के संरक्षण के लिए वन विभाग को प्रदेश स्तर पर अभियान चलाने के लिए निर्देश दिए हैं. बर्ड नेस्ट लगाने की अंतिम तिथि सात मार्च तक यह स्कूलों में भी लगाए जाएंगे. 

विश्व गौरैय्या दिवस

कुछ सालों पहले तक हर घर में फुदकने और चीं-चीं करने वाली खूबसूरत गौरेय्या अब विलुप्त हो रही है. इनकी तादाद बढ़ाने के लिए 2010 से 20 मार्च को हर वर्ष गौरैय्या दिवस का आयोजन किया जाता है. दुनिया भर में मनाए जाने वाले इस दिवस को गौरैय्या समेत अन्य विल्पुत प्राय पक्षियों की संख्या बढ़ाने के लिए कार्यक्रम चलाने के साथ ही जागरूकता अभियान चलाए जाते हैं.

First published: 2 March 2016, 6:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी