Home » हरियाणा » Cricketer Yuvraj Singh is not booked under domestic violence case, says his advocate
 

'युवराज सिंह पर घरेलू हिंसा का कोई मुकदमा नहीं हुआ दर्ज'

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 October 2017, 13:52 IST

जहां बुधवार को खबर आई थी कि मशहूर क्रिकेटर युवराज सिंह का नाम उनकी मां और भाई समेत घरेलू हिंसा के मुकदमे में शामिल है, उनके वकील ने इसका खंडन करते हुए कहा कि इस प्रकार का कोई भी मामला युवराज सिंह के खिलाफ दर्ज नहीं हुआ है.

वकील के मुताबिक युवराज सिंह के छोटे भाई जोरावर सिंह की पत्नी आकांक्षा शर्मा ने अपने पति और सास शबनम के खिलाफ घरेलू हिंसा की शिकायत दर्ज कराई है. शिकायतकर्ता आकांक्षा का आरोप है कि उन्हें मानसिक और वित्तीय रूप से यातनाएं दीं गईं.

गुरग्राम की एक अदालत ने युवराज और उनके परिवार को नोटिस जारी कर इसका जवाब, सुनवाई की तारीख 21 अक्टूबर को देने को कहा है.

आकांक्षा ने कहा कि उनके ससुराल वालों ने उन पर मां बनने का जोर डाला. इसके साथ ही उन्होंने अपनी शिकायत में युवराज का नाम लेते हुए कहा कि वह एक मूकदर्शक की तरह उनके परिवार वालों को उन्हें परेशान करते हुए देखते थे.

समाचार चैनल 'सीएनएन न्यूज-18' ने आकांक्षा के हवाले बताया कि ऐसा एक दिन भी नहीं होता था, जब वह रोती नहीं थीं. इस मामले की जांच एसडीएम या महिला पुलिस अधिकारी द्वारा की जाएगी, जो अपनी रिपोर्ट अदालत को सौंपेंगे.

आकांक्षा की वकील स्वाति सिंह ने एक वेबसाइट को दिए बयान में बताया कि आकांक्षा ने युवराज, जोरावर और उनकी मां शबनम के खिलाफ घरेलू हिंसा की शिकायत दर्ज कराई है.

स्वाति ने कहा, "घरेलू हिंसा का मतलब शारीरिक यातना ही नहीं होता है. इसका अर्थ मानसिक और वित्तीय रूप से दी गई यातनाएं भी होती हैं. इसके लिए युवराज को भी जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, क्योंकि वह एक मूकदर्शक की तरह मेरी मुवक्किल पर होते अत्याचारों को देखते रहे."

वकील ने कहा कि जब जोरावर और जोरावर की मां आकांक्षा पर बच्चे के लिए दबाव डाल रहे थे, तो युवराज ने भी उनका साथ दिया. वह भी आकांक्षा पर मां बनने के लिए दबाव डाल रहे थे. वह अपनी मां के साथ मिले हुए थे.

युवराज, शबनम और जोरावर के वकील दलबीर सिंह सोबती ने बुधवार को चंडीगढ़ में जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, "सोशल मीडिया में कई गलत बातें फैलाई गई हैं, जिसमें कहा गया कि मेरे मुवक्किल के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. ये सारे आरोप निराधार हैं. ऐसी कोई भी एफआईआर और शिकायत दर्ज नहीं की गई है."

वकील ने कहा, "आकांक्षा ने घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005 से महिलाओं के संरक्षण की धारा 25 के तहत एक याचिका दायर की है और मेरे मुवक्किल को आरोपी बनाया."

अकांक्षा ने कलर्स चैनल पर बिग बॉस सीजन-10 के शो में हिस्सा लिया था और युवराज की मां शबनम और भाई जोरावर के खिलाफ कुछ अपमानजनक बयान भी दिए थे.

First published: 19 October 2017, 13:52 IST
 
अगली कहानी