Home » हरियाणा » Haryana bjp Manohar Lal Khattar govt is pent Rs 3.80 lakh on purchase of 10 Gita books says rti
 

खुलासा: हरियाणा सरकार ने लाखों रुपये में खरीदीं हैं 10 भगवद गीता

हेमराज सिंह चौहान | Updated on: 9 January 2018, 12:27 IST

हरियाणा में भाजपा शासित मनोहर लाल खट्टर सरकार गीता जयंती में किए गए खर्चों को लेकर विपक्ष के निशाने पर आ गई है. पिछले साल खट्टर सरकार ने इस कार्यक्रम में बेहताशा फिजूल खर्ची की. इसका खुलासा एक आरटीआई के जरिए हुआ है. ये आरटीआई राहुल सेहरावत नाम के व्यक्ति ने कुरूक्षेत्र विकास बोर्ड में डाली थी.

कुरूक्षेत्र विकास बोर्ड ने आरटीआई ने जवाब देते हुए कहा कि इस पूरे महोत्सव पर सरकार ने 15 करोड़ रुपये खर्च किए. इस महोत्सव के लिए सरकार ने भगवत गीता की एक किताब को खरीदने के लिए 38,000 रुपये खर्च किए गए. 10 भगवत गीता की किताबों पर 3 लाख 80  हजार रुपये खर्च किये गए जो बाजार मूल्य से बहुत अधिक थे.

 

इसके अलावा इस आरटीआई में और भी एक चौंकाने वाले खुलासा हुआ है. पिछले साल हुए इस महोत्सव में हरियाणा सरकार ने 15 करोड़ रुपये खर्च किए थे. ये महोत्सव 25 नवंबर से 5 दिसंबर तक चला. हरियाणा सरकार ने भाजपा सांसदों को भी इसमें शामिल होने के लिए लाखों रुपए दिए. 

मथुरा से सांसद हेमा मालिनी को 20 लाख और दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष और सासंद मनोज तिवारी को इस कार्यक्रम में शामिल होने पर 10 लाख रुपए दिए गए. इस आरटीआई के मुताबिक, एक करोड़ रुपये ब्रह्म सरोवर की मरम्मत में खर्च किए गए, हालांकि इससे पहले भी साल 2016 में ही 38 लाख रुपये इसी काम के लिए पहले ही खर्च हो चुके थे.

इंडियन नेशनल लोक दल ने इस मामले पर खट्टर सरकार पर बडा़ निशाना साधा है. दुष्यंत चौटाला ने ट्वीट कर लिखा, "गीता जयंती पर खट्टर सरकार द्वारा 3,79,500 रुपये में गीता की दस कॉपियों की ख़रीद. वाह नरेंद्र मोदी जी, हरियाणा में कितनी ईमानदार सरकार है. गीता के नाम पर भी चोरी, ऊपर से सीनाजोरी."

इस मामले में राज्य सरकार में मंत्री अनिल विज ने कहा कि गीता महोत्सव काफी शानदार कार्यक्रम था. अगर इस मामले में कोई गड़बड़ी दिखाई पड़ती है तो हम जांच करेंगे और दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे.

First published: 9 January 2018, 12:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी