Home » हरियाणा » haryana ias ashok khemka angry after his onother transfer, says bheja fry on tweet
 

अशोक खेमका ने 51वें ट्रांसफर के बाद गुस्से में किया ये ट्वीट

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 November 2017, 12:19 IST

हरियाणा के आईएएस अधिकारी अशोक खेमका एक बार फिर सुर्खियों में है. अशोक खेमका का 51वीं बार ट्रांसफर हुआ है. अशोक खेमका को इस बार सामाजिक न्याय एवं अधिकारिकता विभाग से हटाकर खेल और युवा मामले विभाग का प्रिंसिपल सेकेट्ररी बनाया गया है. इस बार तबादले के बाद अशोक खेमका की नाराजगी खुलकर सामने आई है. लगातार होते तबादलों से परेशान होकर रविवार को खेमका ने ट्वीट कर अपना दर्द भी जाहिर किया है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''उनका यह ट्रांसफर एक क्रैश लैंडिंग के समान है क्योंकि उन्होंने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग में काफी कुछ प्लानिंग कर रखी थी कि अचानक तबादले की खबर आ गई. यह सब अस्थायी होता है. वह एक बार फिर नई ताकत और ऊर्जा के साथ काम करने को तैयार हैं और नई जिम्मेदारियों का बखूबी निर्वाह करेंगे."

अशोक खेमका ने न्यूज एजेंसी एएनआई से अपने तबादले पर सोमवार को कहा कि अगर ये पब्लिक के फायदे के लिए होता तो सही था लेकिन ये दुख की बात है कि मेरा तबादला अधिकारों का प्रयोग कर किया गया है. अशोक खेमका की छवि ईमानदार अफसर के तौर पर होती है. यूपीए सरकार के समय भी उन्होंने राबर्ट वार्डा के जमीन सौदें के बारे में खुलासा किया था. इसके बाद वो काफी चर्चा में रहे थे.

गौरतलब है कि अशोक खेमका का हरियाणा सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग मंत्री कृष्ण कुमार बेदी के साथ सरकारी गाड़ी के दुरुपयोग को लेकर विवाद हुआ था.इस मामले में उन्होंने मंत्री जी को जमकर लताड़ा था. खेमका मंत्री के विभाग में प्रधान सचिव के तौर पर कार्यरत थे. अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए उन्होंने 3.22 लाख लोगों की पेंशन बंद कर दी थी जिनके दस्तावेज मौजूद नहीं थे. इनमें से एक लाख लोगों की पेंशन आज भी बंद है.

खेमका को अब उनके करीबी मंत्री अनिल विज के खेल विभाग में भेज दिया गया है. अनिल विज कई मुद्दों पर अशोक खेमका के साथ खड़े दिखाई दिए हैं. उम्मीद है कि अनिल विज के साथ भेज जाने पर अब राज्य सरकार के साथ उनका टकराव कम होगा.

First published: 13 November 2017, 12:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी