Home » हरियाणा » Seven month child dies after ambulance gets stuck in jam caused by Haryana Congress President Ashok Tanwar's rally in Sonipat
 

हरियाणा: कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की साइकिल रैली में फंसी एंबेलुस, मासूम की तड़प-तड़प कर हुई मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 August 2018, 17:02 IST

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर अपनी साइकिल को लेकर विवादों में घिर गए हैं. मंगलवार को अशोक तंवर ने सोनीपत में साइकिल रैली निकाली थी. आरोप है कि उनकी साइकिल रैली में काफी भीड़ थी. इस दौरान एक एंबुलेंस इस जाम में फंस गई. इस एंबुलेंस में सात महीने की बच्ची को ले अस्पताल ले जाया रहा था. लेकिन उसकी जाम में फंसे होने की वजह से एंबुलेंस में ही तड़प-तड़प कर मौत गई.

गौरतलब है कि अशोक तंवर में राफेल डील में भारतीय जनता पार्टी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए 'हरियाणा बचाओ परिवर्तन लाओ' नारे के साथ एक साइकिल रैली निकाली थी. कुंडली गांव के नजदीक इस रैली में एक एंबुलेंस करीब 20 से 30 मिनट तक ट्रैफिक जाम में फंसी रही. इसी बीच एंबुलेंस में फंसा मासूम वहां 40 मिनट तक जाम में फंसा रहा. इस मासूम के माता पिता ने कुंडली पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है. 

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए अशोक तंवर ने कहा, "जब हमारे लोगों को पता चला कि ट्रैफिक में ऐंबुलेंस फंसी है, तो उन्होंने सड़क तुरंत खाली कर दी. सरकार, स्थानीय प्रशासन और पुलिस को इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए. बच्चे के लिए कोई नर्स, डॉक्टर या उचित ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं था." 
 
इस घटना के सामने आने के बाद स्वास्थ मंत्री अनिल विज ने जांच के आदेश दे दिए हैं. उन्होंने कहा कि एंबेलुस के ड्राइवर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है और सख्त जो कोई भी इस मामले में दोषी होगा उनके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा.

तंवर ने दावा किया कि मासूम बच्चे की मौत अस्पताल की लापरवाही की वजह से हुई. उन्होंने कहा, "मेरे पास उसके पिता का वीडियो है, जिसमें उन्होंने कहा कि यह अस्पताल की लापरवाही के कारण हुआ था. वह वहां 12 बजे थे और उन्हें सुविधाएं नहीं मिलीं, बाद में उन्हें सिविल अस्पताल और फिर रोहतक भेजा गया."

First published: 23 August 2018, 16:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी