Home » हरियाणा » UPSC Final Result 2018 Haryana origin Income Tax Commissioner Sunil Sheoran his wife Swati again qualify Civil Service exam
 

UPSC परीक्षा में असिस्टेंट कमिश्नर पति-पत्नी ने फिर दोहराई सफलता की कहानी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 April 2019, 10:13 IST

कहते हैं कि सफलता किसी चीज की मौहताज नहीं होती, कुछ लोग समय ना होना का रोना रोकर अपनी नाकामी पर आंसू बहाते हैं लेकिन कुछ लोग खामोशी के साथ सफलता की ओर बढ़ते जाते हैं. ऐसा ही कुछ कर दिखाया हरिणाया के एक लाल और उसकी पत्नी ने. जो वर्तमान में असिस्टेंट कमिश्नर के पद पर तैयान हैं. जिन्होंने एक बार फिर से यूपीएसपी की परीक्षा में सफलता हासिल की है.

रोहतक के रहने वाले सुनील श्योराण ने यूपीएससी परीक्षा में 192वीं रैंक हासिल की है. सुनील के नाम ये पहली सफलता नहीं है. इससे पहले भी उन्होंने तीन बार यूपीएससी परीक्षा पास की है. साल 2017 की परीक्षा में सुनील ने 250वीं रैंक हासिल की थी. और उससे पहले साल 2016 में भी वह और पत्नी ने यूपीएसपी परीक्षा पास कर चुके हैं.

तब उनकी पत्नी स्वाति की रैंक313आई थीवर्तमान में दोनों पति-पत्नी नागपुर में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में असिस्टेंट कमिश्नर के पद तैनात हैं. सुनील श्योराण ने इस साल यूपीएससी की परीक्षा में 192वीं रैंक हासिल की है.

कैसे की तैयारी

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के बारे में सुनील बताते हैं कि परीक्षा की तैयारी के दौरान सेल्फी स्टडी पर ज्यादा ध्यान दिया. तैयारी के दौरान वर्तमान मुद्दों पर ज्यादा फोकस किया. सुनील बताते हैं कि परीक्षा को पास करने के लिए अखबार और पत्रिकाएं पढ़ने से ज्यादा मदद मिली. साथ ही राइटिंग प्रैक्टिस पर भी अधिक ध्यान दिया. इसके अलावा रोजाना ऑनलाइन 6 से 8 घंटे तक लगातार पढ़ाई उनकी सफलता का राज है.

बता दें कि सुनील की शादी चरखी दादरी की रहने वाली स्वाति से तीन साल पहले हुई थी. दोनों ने शादी के बाद से ही साथ में सिविल सेवा की तैयारी शुरू की थी. दोनों ने तैयारी के दौरान एक-दूसरे का भरपूर सहयोग किया. किसी भी समस्या के समाधान के लिए आपस में ही डिस्कस कर हल निकाला जिससे उन्हें तैयारी में काफी मदद मिली.

सुनील ने कानपुर आईआईटी से मेकैनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है. इंजीनियरिंग करने के बाद वह यूके की एक फाइनेंस कंपनी में नौकरी करने चले गए जहां उन्होंने चार साल तक काम किया. ब्रिटेन में चार साल नौकरी करने के बाद जब वह वापस रोहतक आए तो बचपन के सपने को साकार करने के लिए सिविल सेवा की तैयारी करनी शुरू की. सुनील बताते हैं कि यूके में नौकरी के दौरान उनके दोस्त सोचते थे कि वह कभी सरकारी नौकरी नहीं करेंगे.

UPSC 2018 में राजस्थान के कनिष्क कटारिया ने किया टॉप, पहली बार में हासिल की सफलता

First published: 6 April 2019, 10:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी