Home » हरियाणा » Where does the idols of Guru and disciples disappear from Guru Gram, pandava, Dronacharya
 

गुरुग्राम से 'गुरु की प्रतिमा कहां गायब हो गयी कोई नही जानता !

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 January 2018, 14:48 IST

हरियाणा सरकार ने गुडगाँव का नाम हाल ही में गुरुग्राम कर दिया. सरकार ने इसके पीछे तर्क दिया था कि गुरु द्रोणाचार्य के नाम पर शहर का नाम गुरुग्राम रखा जा रहा है क्योंकि गुरु द्रोणाचार्य का आश्रम यहीं हुआ करता था.

पिछले तीस सालों से गुरु द्रोणाचार्य की एक प्रतिमा यहां के राजीव चौक के पास एक पार्क में हुआ मौजूद थी. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट कि माने तो पिछले कुछ समय से यह मूर्ति यहां से गायब हो गयी है.

रिपोर्ट के अनुसार 6 फुट की इस गुरु द्रोण की प्रतिमा के चारों तरफ उनके पांचों पांडव शिष्यों की प्रतिमाएं भी मौजूद थीं. 5.5 फुट की पांडवों की भी प्रतिमाएं वहां से अब गायब हो गयी है. वहीँ नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) को भी इस बात की कोई जानकारी नही है कि इन प्रतिमाओं को किसने हटाया.

 

इस बारे में एनएचएआई की परियोजना सलाहकार ब्लूम कंपनीज़ के विशेषज्ञ सौरभ सिंह ने बताया कि 'हमने मूर्तियां नहीं हटाईं. शायद एमसीजी (गुड़गांव नगर निगम) ने हटाई हों. जबकि एमसीजी के नगर नियोजक सुधीर चौहान ने इस बात से साफ़ इनकार कर दिया कि मूर्तियों के बारे में उन्हें कुछ जानकारी है.

उनका कहना है कि अगर वे हटाई गई होंगी तो वे निश्चित रूप से वह एमसीजी के वेयर हाउस में मौजूद होंगी. 

उधर स्थानीय लोगों में इस बात का गुस्सा है कि 'प्रशासन को इसकी जानकारी क्यों नहीं है कि यह प्रतिमाएं आखिर कहां गयी. उनका कहना है कि शहर का नाम गुरुग्राम कर दिया, लेकिन गुरु द्रोणाचार्य की प्रतिमा सुरक्षित नहीं रख सकते.

First published: 19 January 2018, 14:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी