Home » हेल्थ केयर टिप्स » A senior surgeon saves a 48 year patient in Siddharth Hospital and Research Centre in up
 

मूत्राशय से निकली 800 ग्राम की पथरी, डॉक्टर हैरान

न्यूज एजेंसी | Updated on: 25 March 2018, 10:45 IST

उत्तर प्रदेश के जौनपुर के वाजिदपुर तिराहा स्थित सिद्धार्थ हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के वरिष्ठ सर्जन डॉ. लाल बहादुर सिद्धार्थ ने शनिवार को 48 वर्षीय सूरजभान का काफी प्रयास के बाद सफल ऑपेरशन कर नई जिंदगी दी. सूरजभान तीन वर्षों से पथरी की समस्या से ग्रस्त था. नेवढ़िया क्षेत्र के नोकरा गांव निवासी सूरजभान पेशाब की थैली (मूत्राशय) में हुए पथरी की समस्या तीन साल से थी. पीड़ित का कहना है कि उन्हें दर्द होता था, तो वह मेडिकल से दर्ज की दवा लेकर खा लिया करता था.

दवा लेने के कुछ समय बाद दर्द ठीक हो जाता था. इसी तरह समय बीतता गया. जब गंभीर हो गई तो बाहर कई डाक्टरों को दिखाया, लेकिन कुछ आराम नहीं मिला. उसके बाद डॉ. सिद्धार्थ के हॉस्पिटल पर आया, तब जांच में पता चला कि मूत्रालय में पथरी है जो एक बड़ी गांठ के रूप में है. शनिवार को वरिष्ठ सर्जन डॉ. सिद्धार्थ ने अपने डाक्टरों की टीम के साथ सूरजभान का सफल ऑपरेशन कर पेशाब थैली में से 800 ग्राम की पथरी निकाला और उस व्यक्ति की जान बचाई.

डॉ. सिद्धार्थ ने बताया कि यह पथरी 800 ग्राम की है. अगर समय रहते नहीं निकाला जाता तो उसकी जान भी जा सकती थी. मेडिकल की दवाई खाने से कुछ समय के लिए आराम मिल जाता था, जिससे बगल में कुछ जगह होने के कारण पेशाब आसानी से निकल जाता था. लेकिन ऐसा अगर लगातार चलता रहता तो आगे चलकर पथरी और बड़ी हो जाती और इसका प्रभाव किडनी पर पड़ता, जिससे व्यक्ति को और गंभीर समस्या हो सकती थी. ऑपरेशन को सफल बनाने में डॉ. राजेश कुमार, डॉ. राजेंद्र सिद्धार्थ, डॉ. विनोद कुमार यादव एवं समस्त स्टाफ की अहम भूमिका रही.

First published: 25 March 2018, 10:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी