Home » हेल्थ केयर टिप्स » Adulteration In Milk And It’s Products On Diwali Festival Know The Method Of Explaining
 

सावधान! कहीं आप भी तो नहीं पी रहे साबुन और स्टार्च मिला दूध, इस तरकीब से करें जांच

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 November 2018, 13:13 IST

त्योहारी सीजन में दूध से बने उत्पादों की बिक्री में तेजी से बढ़ोतरी होती है. ऐसे में दूध और दूध से बने उत्पादों में मिलावट की खबरें तेजी से आती हैं. दूध में और उसके बने उत्पादों में मिलावट है या नहीं इसके बारे में पता लगाने के लिए हमें क्या करना चाहिए. जिससे हमें पता चल सके कि दूध में मिलावट है या नहीं.

बता दें कि अधिक मुनाफा कमाने के लिए दूधवाले अक्सर दूध में साबुन और स्टार्च मिला देते हैं. जो हमारी सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक होता है. लेकिन सामान्य आदमी दूध की मिलावट को नहीं समझ पाता और अपनी सेहत से खिलावाड़ करता रहता है.

ऐसे में भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने इस मिलावट को जल्दी से पता करने के लिए कुछ सुझाव जारी किये हैं. संस्था द्वारा जारी डिटेक्ट एडल्टेरेशन विद रैपिड टेस्ट (डार्ट) पुस्तिका में 41 टेस्ट हैं. जिसे कोई भी अपने घर पर आराम से कर सकता है. आज हम आपको दूध और उसके उत्पादों में मिलावट को पहचानने का तरीका बताने जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें- स्वस्थ रहने के लिए जरूर अपनाएं ये देसी नुस्खे, इन खतरनाक बीमारियों को देंगे मात

कैसें करें दूध में मिलावट का पता

सबसे पहले दूध की गुणवत्ता यानि मिलावट का पता लगाने के लिए, दूध की एक बूंद को ढलान वाली चिकनी सतह पर रखें. शुद्ध दूध की बूंद या तो ठहरी रहेगी या फिर धीरे-धीरे धलान की ओर बहने लगेगी और सफेद निशान छोड़ती जाएगी. वहीं मिलावटी दूध तेजी से ढलान की ओर बढ़ेगा और कोई निशान भी नहीं छोड़ेगा.

ये भी पढ़ें- वायु प्रदूषण से बचने के लिए इन चीजों का खाने में करें प्रयोग, बीमारियों से बचाने में देंगी साथ

दूध में साबुन की मिलावट का परीक्षण करने के लिए, पांच से दस मिली दूध का नमूना लें और उतनी ही मात्रा में पानी भी लें. दोनों को अच्छी तरह से मिला लें. यदि दूध में साबुन मिला हुआ होगा तो ढेर सारा झाग बन जाएगा.

ये भी पढ़ें- इस देश में गाय को गले लगाने के लिए हजारों रुपये खर्च कर रहे लोग, वजह जानकर रह जाएंगे दंग

दूध से बने उत्पाद यानि खोया, छेना और पनीर में स्टार्च का परीक्षण करने के लिए, सबसे पहले दो से तीन मिली के नमूने को पांच मिली पानी के साथ उबालें. उसके बाद इसे ठंडा कर लें. इसमें दो-तीन बूंद ऑयोडीन का घोल मिला लें. यदि घोल की रंगत नीली हो जाती है तो समझिए इसमें स्टार्च मिला हुआ है.

वहीं अगर आपको घी और मक्खन में स्टार्च का परीक्षण करने के लिए, सबसे पहले आधा चम्मच घी या मक्खन कांच के पारदर्शी प्याले में रखें. इसमें ऑयोडीन के घोल की दो-तीन बूंदें मिला लें. इस घोल की रंगत नीली हो जाती है तो समझिए स्टार्च की मिलावट है.

ये भी पढ़ें- बीमारियों से बचना है तो सुबह पांच मिनट धूम में खड़े होकर करें ये काम

First published: 1 November 2018, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी