Home » हेल्थ केयर टिप्स » Ayurvedic medicine to corona virus, told in government, use these medicines
 

सरकार ने बताया कोरोना वायरस का आयुर्वेदिक इलाज, कहा इन दवाओं का करें इस्तेमाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 January 2020, 8:36 IST

आयुष मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए एक एडवाइजरी जारी की है, जो आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी चिकित्सा पद्धति पर आधारित है. एडवाइजरी में गया है कि कई यूनानी दवाएं कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ने के लिए कारगर हैं. सलाह में कहा गया है कि हाथों को साबुन से कम से कम 20 सेकंड तक धोना, आंखों, नाक और मुंह को बिना धुले हाथों से न छूना आपको इसके संक्रमण से बचा सकता है.

एक रिपोर्ट के अनुसार आयुर्वेद की सलाह में शदांग पनिया (मुस्ता, परपाट, उशीर, चंदन, उदया गर्म पानी के साथ एक दिन में शेषमणि वटी 500 मिलीग्राम दिन में दो बार त्रिकटु (पिप्पली, मारीच और शुंठी) पाउडर 5 ग्राम और तुलसी 3-5 पत्ते की सलाह दी गई है. मंत्रालय ने आगाह किया कि इसे केवल पंजीकृत आयुर्वेद चिकित्सकों के परामर्श से अपनाया जाएगा. सरकार की इस एडवाइजरी की सोशल मीडिया पर भी चर्चा है. 


मंत्रालय ने कहा कि 28 जनवरी को अपने वैज्ञानिक सलाहकार बोर्ड की एक बैठक के बाद सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन होम्योपैथी ने सिफारिश की थी. कहा गया है होम्योपैथी दवा आर्सेनिकम एल्बम 30 को कोरोनावायरस संक्रमण के खिलाफ रोगनिरोधी दवा के रूप में लिया जा सकता है. इसे रोजाना तीन दिनों तक खाली पेट में लेना चाहिए.

मंत्रालय ने शरबत उन्नाब 10-20 मिली दिन में दो बार तिर्यक अरबा 3-5 ग्राम दिन में दो बार तिर्यक नजला 5 ग्राम दिन में दो बार और खमीरा मर्वर 3-5 ग्राम एक बार सहित कई दवाओं को सूचीबद्ध किया है. रोगन और रूहान मॉम / कफूरी बाम के साथ सिर और छाती पर मालिश की सलाह दी है.

रहस्यमय घातक कोरोनावायरस से 4,500 लोगों को संक्रमितहो चुके हैं और 100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. 28 जनवरी को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी इस एडवाइजरी जारी की थी.

चीन में कोरोना वायरस से 132 लोगों की मौत, Apple ने बंद किया स्टोर, रोकी यात्रा

First published: 30 January 2020, 8:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी