Home » हेल्थ केयर टिप्स » benefits for sadabahar leaves
 

सदाबहार की पत्तियों के हैं गजब के फायदें, डायबिटीज रोगियों का शुगर लेवल करता है कंट्रोल

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 September 2020, 15:59 IST

डायबिटीज diabetes की समस्या से आज कर हर कोई जूझ रहा है. शरीर में शुगर का लेवल बढ़ने से व्यक्ति को डायबिटीज हो जाता है.डायबिटीज दो तरह की होती है- टाइप-1 डायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज. 90 प्रतिशत मामले दुनियाभर में इसी तरह के हैं. डायबिटीज का तीसरा प्रकार है जेस्टेशनल डायबिटीज़, जो अक्सर गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को हो जाता है.

स्वस्थ जीवनशैली, संतुलित भोजन और एक्‍सरसाइज के जरिए डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं.लोग स्वस्थ रहने के लिए दवाईयों का सेवन करते हैं, लेकिन क्या आप मालूम है कि आप दवाईयों के अलावा इसे सदाबहार की पत्तियों से भी आराम पा सकते हैं.


दरअसल सदाबहरा का इस्तेमाल काफी वक्त से आयुवर्दे और चीनी दवाओं में किया जाता है. इसमें मधुमेह, मलेकिया, गले में खराश और ल्यूकेमिया जैसी स्थितियों से बचने के लिए हर्बल उपचार के तौर पर किया जाता है. इसमें दो सक्रिय यौगिक होते हैं एल्कलॉइड और टैनिन. कहा जाता है पोधे में करीब 100 से ज्यादा अल्कलॉइड पाया जाता है जो काफी फायदेमंद होता है.

घर बनाने से पहले प्लॉट खरीदते वक्त रखें इन बातों का ध्यान, भूमी में छिपा होता है धन आगमन का एक स्त्रोत

 

इस्तेमाल करने का तरीका-
सदाबहार की ताजी हरी पत्तियों को सबसे पहले सुखा लीजिए. इसके बाद इसे अच्छी तरह से इसे पीस लें और एक एयर-टाइट कंटेनर में रख लें. रोजाना एक कप ताजे फलों के रस या पानी के साथ इस सूखे पत्तों के पाउडर का एक चम्मच सेवन करें. आपको इस पत्ती का पाउडर थोड़ा कड़वा जरूर लग सकता है.

याद रखें कि पौधे की 3 से 4 पत्तियों से ज्यादा न लें और दिन में रक्क शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने के लिए उन्हें सिर्फ मुंह में रख कर चबाते रहें.इसी के साथ सदाबहार पौधे के गुलाबी रंग के फूल लें और उन्हें एक कप पानी में उबालें. इसको उबलने के बाद आप पानी को छान लें और इसे रोजाना सुबह खासी पेट पीने की आदत डालें.इससे आपको डायबिटीज काफी हद तक कंट्रोल में रह सकता है.

वास्तु शास्त्र से जाने झाड़ू के रख-रखाव की इन बातों का ध्यान, भूलकर भी ना करें ये गलतियां

First published: 15 September 2020, 15:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी