Home » हेल्थ केयर टिप्स » best grain for diabetic patients in india health tips
 

अगर आप भी हैं डायबिटीज के मरीज तो खाएं इस तरह के आटे की रोटियां, कंट्रोल रहेगी शुगर

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 January 2020, 17:22 IST

आज कल डायबिटीज की बीमारी दिन पर दिन बढ़ती जा रही है. ये बीमारी गलत खान-पान और खराब जीवन शैली के चलते हो जाती है. भारत में इस बीमारी से पीड़ित 25 वर्ष से कम उम्र के हर चार लोगों में से एक को टाइप 2 शुगर है. इस बीमारी में यदि खुद का सही से ख्याल न रखा जाएं तो व्यक्ति की हालात इतनी बिगड़ जाती है कि उसकी जान भी जा सकती है.

टाइप 2 मधुमेह के लक्षण वक्त के साथ धीरे-धीरे विकसित होते हैं. इस बीमारी के चपेट में आने के बाद खान-पान में ध्यान रखने की जरूरत होती है. रोटी के सेवन से आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है. डायबिटीज रोगियों को विशेष तरह के आटे की रोटियां खानी चाहिए. चलिए आपको बताते हैं इस आटे की रोटियों के बारे में विस्तार से...

डाइबिटीज के मरीजों को हाई-फाइबर वाली रोटियां खानी चाहिए. फाइबर वाले अनाड से बने आटे की रोटियां हाई ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने में मदद भी करती है. जवार, बाजरा, ओट्स, किनवा और ब्रैन जैसे अनाज हाई फाइबर की श्रेणी में आते हैं. इन अनाजों में फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है. इससे ग्लाइसेमिक रिसपॉन्स बेहतर रहता है.

 

वहीं खाने में काब्स की मात्रा ज्यादा और ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा सकती है. कार्बोहाइड्रेट कार्ब्स का ही एक रूप है. इसलिए जब बी आप कोई रोटी या सैंडविच बनाएं तो ऐसी ब्रेड चुने जिनमें कार्ब्स की मात्रा कम हो. मल्टी ग्रेन या होल ग्रेन ब्रेड का इस्तेमाल एक अच्छा विकल्प हो सकता है.

वहीं गेहूं के आटे के जगह रागी, बाजरा और जई जैसे अनाज के आटे का इस्तेमाल कर सकते हैं. घर में मौजूद साधारण गेहूं का आटा है तो आप उसमें रागी, सोयाबीन, मकई का आटा या बाजरे का आटा मिला सकते हैं.

चावल के साथ हर रोज ये जहर खा रहे हैं आप, नहीं संभले तो कैंसर से हो सकती है मौत

 

First published: 4 January 2020, 17:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी