Home » हेल्थ केयर टिप्स » Beware: Consumption of Energy Drinks is very dangerous for health, know about instant safe & natural energy products
 

एनर्जी ड्रिंक्स पीने वालों के लिए बहुत जरूरी बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 November 2017, 19:43 IST

यूं तो किशोरो-युवाओं में एनर्जी ड्रिंक्स के प्रति आकर्षण बढ़ता जा रहा है और लोग इसका जमकर सेवन करते हैं. लेकिन एनर्जी बूस्ट करने का दावा करने वाले यह ड्रिंक्स, आपकी सेहत के लिए कितने खतरनाक है, आपको इसकी जानकारी भी नहीं. एक ताजा शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि एनर्जी ड्रिंक्स का अधिक सेवन ब्लड प्रेशर, मोटापा, लिवर की खराबी, मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं समेत सेहत के लिए कई जोखिम पैदा कर सकता है.

इस शोध में यह पता चला है कि अक्सर एनर्जी ड्रिंक्स को शराब के साथ लिया जा रहा है. अधिकांश एनर्जी ड्रिंक्स के अवयवों में पानी, चीनी, कैफीन, कुछ विटामिन, खनिज और गैर-पोषक उत्तेजक पदार्थ जैसे गुआरना, टॉरिन तथा जिन्सेंग आदि शामिल रहते हैं.

एनर्जी ड्रिंक्स में लगभग 100 मिलीग्राम कैफीन प्रति तरल औंस होता है, जो नियमित कॉफी की तुलना में आठ गुना अधिक होता है. कॉफी में 12 मिलीग्राम कैफीन प्रति तरल औंस होता है. एनर्जी ड्रिंक्स में उपरोक्त सभी स्वास्थ्य जोखिम इसमें मौजूद चीनी और कैफीन की उच्च मात्रा के कारण होता है.

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. केके अग्रवाल ने कहा, "एनर्जी ड्रिंक्स शरीर के लिए नुकसानदेह हैं. उनमें कैफीन की अधिक मात्रा होने से युवाओं एवं बूढ़े लोगों में हृदय, रक्त प्रवाह और रक्तचाप की समस्याएं हो सकती हैं. इन पेय पदार्थो में टॉरिन (Taurine) नामक एक तत्व होता है, जो कैफीन के प्रभाव को बढ़ाता है. इसके अलावा, जो लोग शराब के साथ एनर्जी ड्रिंक्स पीते हैं, वे इसके प्रभाव में अधिक शराब पी जाते हैं. एनर्जी ड्रिंक्स लेने से शराब पीने का पता नहीं लग पाता, जिस कारण से लोग अधिक पीने के लिए प्रेरित होते हैं."

18 वर्ष से कम उम्र के लोगों, गर्भवती महिलाओं, कैफीन के प्रति संवेदनशील लोगों, एडीएचडी के लिए निर्धारित दवा जैसे एडर आदि लेने वालों के लिए एनर्जी ड्रिंक्स खास तौर पर अधिक नुकसानदेह होते हैं.

यहां कुछ खाद्य पदार्थ बताये जा रहे हैं जो दिन भर सतर्क और उत्साहित रखने में आपकी मदद कर सकते हैं, वो भी स्वाभाविक रूप सेः

  • ग्रीन टी: इसमें विटामिन ए, बी, सी और ई होता है, और यह परिसंचरण तथा मेटाबॉलिज्म में सुधार करती है. इसमें एल-थेनाइन भी शामिल है जो कि एक एंटीऑक्सिडेंट है.
  • गेहूं का सेवन: यह विटामिन ए, सी, ई, बीटा कैरोटीन, एमिनो एसिड और कैल्शियम से समृद्ध होता है. विटामिन बी, विशेष रूप से बी 12, अयरन और मैग्नीशियम ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में आश्चर्यजनक कार्य करते हैं.
  • केला: इसमें पोटैशियम, मैग्नीशियम, सोडियम, कैल्शियम और फास्फोरस समेत इलेक्ट्रोलाइट्स उपस्थित होने के कारण थकान से लड़ने में मदद मिलती है.
  • पानी: एक व्यक्ति जब ऊर्जा के स्तर में कमी का अनुभव करता है, तब उसका मतलब होता है कि उसके शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है. थकान को दूर करने के लिए पर्याप्त पानी का उपयोग करना सुनिश्चित करें.
  • नट: ये प्रोटीन से समृद्ध होते हैं, जो रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर कर देते हैं. अखरोट और बादाम मैग्नीशियम और ओमेगा-3 फैटी एसिड में उच्च होते हैं, जो ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में मदद करते हैं.
First published: 16 November 2017, 19:43 IST
 
अगली कहानी