Home » हेल्थ केयर टिप्स » Beware: Know why exercising can make you sick
 

सावधानः एक्सरसाइज आपको कर सकती है बीमार

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 November 2017, 18:52 IST

क्या कसरत करना भी आपको बीमार बना सकता है? ताजा शोध में पता चला है कि करीब आधे एथलीट्स को कसरत के दौरान गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (पेट या आंतों से जुड़ी) परेशानी का सामना करना पड़ता है. हालांकि यह परेशानियां अलग-अलग होती हैं, जिनमें मतली-उल्टी, पेट दर्द और खूनी पेचिस भी शामिल है.

स्पोर्ट्स मेडिसिन के शोध में खुलासा हुआ है कि सामान्यता कसरत के दौरान रक्त का प्रवाह कम हो जाता है, इसलिए यह परेशानियां सामने आती हैं.

शोध में पता चला कि न केवल इससे किसी एथलीट के प्रदर्शन-क्षमता पर असर पड़ता है बल्कि कसरत के बाद की रिकवरी भी प्रभावित होती है. कसरत से पहले कुछ खाने से तय होता है कि एक्सरसाइज के दौरान आप कितना सहज महसूस करेंगे. इसलिए इससे बचने का भी एक सीधा सा उपाय है.

एपेटाइट में छपे एक शोध में इस बारे में देखा गया कि कसरत को खाना कैसे प्रभावित करता है. 2001 मेें हुए शोध में यह पाया गया कि कड़ी और सामान्य दोनों ही कसरतों से गैस्ट्रिक परेशानी होती है जो अलग-अलग व्यक्तियों द्वारा खाना खाए जाने के तुरंत बाद करने में अलग-अलग होती है.

रीच फिटनेस चलाने वाले पर्सनल ट्रेनर रिचर्ड टिडमार्श कहते हैं कि दुर्भाग्य से यह परेशानी बहुत आम बात है. द इंडिपेंडेंट से बातचीत में उन्होंने कहा कि ऐसा केवल इसलिए नहीं क्योंकि लोग बहुत कड़ी कसरत कर रहे हैं, बल्कि वे इसकी अच्छी तैयारी नहीं कर रहे हैं.

रिचर्ड कहते हैं कि इसका इलाज या प्रमुख वजह खाने और कसरत के बीच पर्याप्त समय देने में है. उन्होंने कहा, "अगर आप कड़ी कसरत करने से 30 महीने पहले अपना नाश्ता करते हैं, तो आप इसे संभवता दो बार महसूस करेंगे."

अक्सर कई बार प्रशिक्षण सत्रों में खुद को अपनी क्षमता से कहीं ज्यादा आगे ले जाने वाले रिचर्ड कहते हैं कि वे कभी भी कसरत करने के बाद बीमार नहीं हुए और इसकी वजह वो उचित खाने की आदत, शरीर में पर्याप्त पानी बनाए रखने और अच्छी नींद लेने को बताते हैं.

उन्होंने कहा, "इस परेशानी से बचने के लिए आपको यह समझना जरूरी होगा कि जिम में कदम रखते ही आपकी कसरत शुरू नहीं हो जाती, हकीकत में तो यह तीन से चार घंटे पहले ही शुरू हो चुकी होती है."

शोध के दावे हैं कि इस तरह की परेशानी लंबी दौड़ करने वाले धावकों में ज्यादा पाई जाती है और उन्हें गैस्ट्रिक (पेट से जुड़ी) परेशानी होने से दो-चार होने की ज्यादा संभावना होती है क्योंकि जिस हिसाब से वे दौड़ते हैं उससे उनके पूरे शरीर और अंगों पर असर पड़ता है और इससे आंतों से निकलने वाला हार्मोन भी परिवर्तित हो जाता है.

First published: 15 November 2017, 18:52 IST
 
अगली कहानी