Home » हेल्थ केयर टिप्स » Candida Auris Fungus is kills people in 90 days in the world
 

दुनिया के लिए संकट बनती जा रही है ये रहस्यमयी फफूंद, तीन महीने में चली जाती है पीड़ित की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 April 2019, 9:12 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

दुनियाभर में इनदिनों एक विशेष तरह के फंगस यानि फफूंद का खतरा मंडरा रहा है. ये फफूंद इतना खतरनाक है कि इंसान की 90 दिनों के अंदर जान ले सकता है. सबसे बड़ी चिंता की बात तो ये है कि इस फफूंद का कोई इलाज भी नहीं है. साथ ही इंसान की मौत के बाद भी ये खत्म नहीं होता और एक से दूसरे मनुष्य में तेजी से फैलता है.

वैज्ञानिकों ने इस खतरनाक फंगस को 'कैंडिडा ऑरिस' नाम दिया है. न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक 'कैंडिडा ऑरिस' फफूंद की चपेट में आने से कई लोगों की मौत हो चुकी है. कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को ये फंगस सबसे पहले अपना शिकार बनाता है.

इस रिपोर्ट में बताया गया है कि, पिछले साल मई के महीने में इस फफूंद का पहला मरीज ब्रुकलिन में मिला था. बता दें कि वहां के माउंट सिनाई हॉस्पिटल फॉर ऐब्डॉमिनल सर्जरी में एक बुजुर्ग शख्स को भर्ती कराया गया था. जिनके खून की जांच में इस बात का पता चला था कि वह किसी रहस्यमयी फफूंद से पीड़ित है.

उसके बाद इस बुजुर्ग को आईसीयू में शिफ्ट किया. हालांकि कुछ समय बाद उसकी मौत हो गई. मौत के बाद इस फंगस से पीड़ित कई मरीज सामने आए. बता दें कि पिछले पांच सालों में वेनेजुएला और स्पेन के कुछ अस्पतालों में इस फंगस से पीड़ित कई लोग सामने आए. इस फंगस के चलते एक ब्रिटिश मेडिकल सेंटर को अपने आईसीयू की एक यूनिट तक बंद करनी पड़ी थी.

प्रतीकात्मक फोटो

'कैंडिडा ऑरिस' फंगस ने पहले अमेरिका और यूरोप में कहर बरपाया और अब ये एशियाई देशों में भी पैर पसारने लगा है. रिपोर्ट में कहा गया है कि इस फंगस के मामले भारत, पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रीका में भी मिले हैं. रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि माउंट सिनाई हॉस्पिटल में भर्ती कैंडिडा ऑरिस से पीड़ित बुजुर्ग की जब मौत हो गई तब उसकी मौत के बाद भी उसके खून में कैंडिडा ऑरिस नाम का वायरस पाया गया था.

प्रतीकात्मक फोटो

अस्तपाल के प्रबंधक डॉ स्कॉट लॉरिन के मुताबिक, बुर्जुग की मौत के बाद हमें दीवारें, बिस्तर, दरवाजे, पर्दे, फोन, सिंक, वाइटबोर्ड, चादर, बेड रेल में कैंडिडा ऑरिस के नमूने मिले थे. चिकित्सकों का कहना है कि कैंडिडा ऑरिस इतना खतरनाक फफूंद है जिस पर ऐटीफंगल दवाईयों का भी कोई असर नहीं होता. कैंडिडा ऑरिस फंगस से पीड़ित मरीज की 90 दिनों के अंदर मौत हो जाती है.

सेहत के लिए 'हीरा' है जीरा, ऐसे डाइट में शामिल करने से होंगे कई गुणकारी फायदे

First published: 9 April 2019, 9:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी