Home » हेल्थ केयर टिप्स » Carpal Tunnel Syndrome know about its symptoms causes and treatment how to get relief
 

ज्यादा देर तक टाइपिंग करने से हो सकती है साढ़े तीन उंगलियों की बीमारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 May 2018, 11:23 IST

आधुनिक युग में जीवनशैली में तेजी से बदलाव हो रहा है. ऐसे में लोगों का रुटीन पूरी तरह से बदल गया है. इस बदले हुए रुटीन ने इंसान को तमाम परेशानियां और बीमारियों की भी सौगात दी है. इनमें लबे समय तक की-बोर्ड पर टाइपिंग करना भी शामिल है.

अगर आप भी लंबे समय तक की-बोर्ड पर टाइपिंग करते हैं, तो आपको अपने हाथों का खास ख्याल रखने की जरूरत है. क्योंकि ज्यादा टाइपिंग करने से कार्पल टनल सिड्रोम नाम की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है. ये बीमारी दुनियाभर के साथ भारत में भी तेजी से फैल रही है. वहीं पुरुषों की तुलना में महिलाओं को इस बीमारी की संभावना तीन गुनी ज्यादा होती है.

कार्पल टनल सिंड्रोम नाम की ये बीमारी एक विशेष प्रकार की नर्व पर पड़ने वाले दबाव से होने वाली परेशानी है. आम बोलचाल की भाषा में इसे साढ़े तीन उंगलियों की बीमारी भी कहा जाता है. इस बीमारी में मरीज की कलाई, अंगूठा, अंगूठे के साथ वाली दो उंगलियों और तीसरी आधी उंगली में दर्द होने लगता है.

वैसे ये बीमारी इंसान की कलाई और हाथ की उंगलियों को शिकार बनाती है, लेकिन कई बार दर्द बढ़कर बाहों तक भी पहुंच जाता है. इस परेशानी के पीछे कई कारण हो सकते हैं. जैसे- कलाई पर लगातार पड़ने वाला दबाव, दिन भर बहुत काम से घिरे रहना, गर्भावस्था के दौरान शरीर में फ्लूइड की कमी, कलाई में किसी तरह की चोट या फिर रूमेटॉइड आर्थराइटिस जैसी कोई बीमारी आदि.

एक्‍सपर्ट के मुताबिक यह बीमारी ज्‍यादातर टाइपिंग और खेल में कलाईयों के इस्‍तेमाल से होती है. वहीं इस बीमारी का खतरा उन लोगों को ज्‍यादा होता है जो 4-5 साल से रोजाना कई घंटे टाइपिंग कर रहे हैं. बता दें कि ये कोई लाइलाज बीमारी नहीं है. थोड़ी सी सावधानी बरती जाए तो इस बीमारी से बचा जा सकता है.

क्या है इससे बचने के उपाय

इस बीमारी से बचने के लिए आपको रेगुलर एक्‍सरसाइज करनी चाहिए. साथ ही सही पोश्‍चर के जरिए भी आसानी से इस बीमारी से बचा जा सकता है. बता दें कि कार्पल टनल बीमारी के दर्द को एक्सरसाइज से भी काबू पाया जा सकता है. खासतौर पर कलाई और उंगलियों से जुड़ी एक्सरसाइज इसमें बहुत मददगार साबित होती हैं.

आप चाहें तो किसी एक्‍सपर्ट से भी सलाह ले सकते हैं. इस बीमारी से निजात पाने के लिए आपको गर्दन, हाथों, कंधों और बांहों की सामान्य एक्सरसाइज सीखने की जरूरत पड़ेगी. इन एक्सरसाइज को रोजाना करने से आप इस बीमारी से बच सकते हैं.

इन उपायों भी हो सकते हैं लाभकारी

इस बीमारी से बचने के लिए आप कलाई को सपोर्ट देने वाले जैल युक्त माउस पैड का प्रयोग कर सकते हैं. साथ बता दें कि जब आप कंम्प्यूटर पर काम करें तो कोहनियां शरीर के दोनों ओर आराम की स्थिति में होनी चाहिए. अगर आप माउस का इस्तेमाल करते हैं तो अपनी कलाई के जोड़ों को मोड़ कर रखने की बजाए अधिकतर सीधा रखकर काम करने की कोशिश करें.

हाथों पर रोजाना मसाज करने से भी इस बीमारी से निजात पाई जा सकती है. साथ ही काम के दौरान छोटे-छोटे ब्रेक लेना भी आरामदायक है. दोनों हाथों का बराबर इस्तेमाल करने से भी इस बीमारी से बचा जा सकता है.

ये भी चलें- LED से निकलने वाली नीली रौशनी से हो सकता है कैंसर, शोध में हुआ खुलासा

First published: 3 May 2018, 11:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी