Home » हेल्थ केयर टिप्स » effect to diabetes and asthma patients how much risk for patients for coronavirus
 

जानिए कोरोना वायरस से डायबिटीज और अस्थमा के मरीजों को कितने प्रतिशत है खतरा

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 March 2020, 15:11 IST

कोरोना वायरस (Coronavirus) किसी को भी संक्रमित कर सकता है. लेकिन इस वायरस से उन लोगों को ज्यादा खतरा है जिन्हें उससे पहले से भी कोई स्वास्थ्य समस्या है या वो उम्रदराज है. द लांसेट जर्नल के एक अध्ययन के मुताबिक जो लोग उम्रदराज हैं या जिन्हें हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज जैसी बीमारियां हैं उन्हें इस वायरस से जान जाने का अधिक खतरा है.

वुहान के दो अस्पतालों में 191 मरीजों पर एक अध्ययन किया गया. इसमें शोधकर्ताओं ने उन लोगों पर अध्ययन किया जिनकी या तो मृत्यु हो चुकी थी या जो अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके थे. कुल सैंपल में से 58 मरीजों को हाइपरटेंशन, 36 को डायबिटीज और 15 को दिल संबंधी बीमारियां थी. जिन मरीजों की मौत हुई उसमे उम्रदराज मरीजों में अस्पताल में भर्ती होते समय सेप्सिस के लक्षण थे. उन्हें हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज जैसी बीमारियां थी.

Coronavirus: भारत में कोरोना वायरस के 195 मामले, किस राज्य में कितने मरीज ?

यदि आप पहले से किसी बीमारी से ग्रसित हैं तो ये जरूरी नहीं है कि आपको कोरोना वायरस का संक्रमण दूसरों के मुकाबले जल्दी हो जाए. लेकिन संक्रमण के बाद हालात अन्य मरीजों से ज्यादा गंभीर हो सकते हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण बूढ़ों और पहले से ही सांस की बीमारी से परेशान लोगों, कमजोर प्रतिरक्षण प्रणाली, मधुमेह और दिल के रोगों जैसी बिमारियों का सामना करने वालों के गंभीर रूप से बीमार होने की आशंका अधिक होती है.

कई लोगों के लिए ये ज्यादा गंभीर हो सकता है और दुर्लभ मामलों में तो इससे जान को खतरा हो सकता है. इसके लक्षण अन्य बीमारियों से मिलते-जुलते हैं. जैसा हमें सर्दी जुकाम होने पर महसूस होता है इसके लक्षण भी उसी तरह के हैं. वहीं जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर, सांस संबंधी समस्या हो जाती है. यदि आपको भी इसकी तरह के किसी फ्लू के लक्षण दिखते हैं तो आपको फौरन डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.

चीन का दावा: ये जापानी दवा हो रही है कोरोना वायरस मरीजों पर कारगर साबित

First published: 20 March 2020, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी