Home » हेल्थ केयर टिप्स » effect of cooking with pressure cooker on health
 

प्रेशर कुकर में खाना बनाने वाले हो जाएं सावधान! सेहत को हो सकता है इससे नुकसान

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 February 2019, 11:27 IST

आधुनिक लाइफ भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग अपने काम को जल्द से जल्द खत्म करने का तरीका ढूंढते हैं. वो काम चाहे घर की साफ-सफाई हो या फिर खाना बनाना. खाना जल्दी बने इसलिए आज के समय में ज्यादातर लोग कुकर का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि जल्दी के चक्कर में आप अपने सेहत के साथ खिलबाड़ कर रहे हैं?

जी, हां जानकारों के मुताबिक कुकर में खाना पकाना सेहत के लिए जितना फायदेमंद होता है. उतना ही नुकसानदायक होता है. बताया जा रहा है कि कुछ चीजों को कुकर में पकाकर खाने से सेहत पर इसका बुरा असर पड़ता है. चलिए जानते हैं आखिर किन चीजों को कुकर में पकाकर खाना चाहिए और किन चीजों को नहीं-

एक्सपर्ट के मुताबिक, यदि आप स्टार्च से भरपूर खाने को प्रेशर कुकर में पकाकर खाते हैं, तो ये आपके सेहत के लिए काफी नुकसानदाक हो सकता है. जैसे- आलू, चावल, पास्ता जैसे स्टार्च से भरपूर चीजों को प्रेशर कुकर में पकाकर नहीं खाना चाहिए. क्योंकि इनको कुकर में पकाने से एक्रीलामाइड नाम का हानिकारक केमिकल बनता है, जिसका सेवन करने से आपको कैंसर और न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर जैसी बीमारी हो सकती है.

सावधान! मीठा खाने वालों को हो सकता है ये भारी नुकसान

वहीं, एक्सपर्ट का कहना है कि यदि आप पोषक तत्व से भरपूर सब्जियों को कुकर में पकाकर खाते हैं तो ये आपके सेहत के लिए फायदेमंद होता है. क्योंकि कुकर में इन सब्जियों को पकाकर खाने से पोषक तत्व मौजूद रहते हैं, जबकि यदि आप इन सब्जियों को दूसरे तरीके से पकाते हैं, तो ज्यादा गर्म किए जाने की वजह से इन सब्जियों का पोषक तत्व खत्म हो जाता है.

इसी के साथ चिकन और मटन बनाने में ज्यादा समय लगता है इसलिए ज्यादातर लोग इस पकाने के लिए कुकर का इस्तेमाल करते हैं और ऐसा करना सही भी है. क्योंकि खुले बर्तन में पकाए गए चिकन या मटन को पचाने में बहुत मुश्किल होता है. जबकि कुकर में पकाए गए चिकन व मटन का आसानी से पचाया जा सकता है. चावल बनाने के लिए भी हमेशा कुकर का इस्तेमाल कराना चाहिए, क्योंकि खुले बर्तन में पकाए गए चावल के मुकाबले कुकर में पकाए गए चावल ज्यादा पोषक तत्व से भरपूर होता है.

न लोगों को करेले से रहना चाहिए दूर, वरना बढ़ सकती है परेशानी

First published: 19 February 2019, 11:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी