Home » हेल्थ केयर टिप्स » hair loss and baldness health tips
 

अगर आपके भी तेजी से झड़ रहे हैं बाल तो न करें नजरअदांज, हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2020, 11:12 IST

बालों के टूटने की समस्या आजकल बेहद ही आम हो गई है. ज्यादातर लोग इससे बेहद परेशान रहते हैं. यदि आपके 70 से 100 बाल रोजाना टूटते हैं तो इसमें घबराने की बिलकुल जरूरत नहीं हैं. लेकिन इससे ज्यादा यानी आपको लगे की बाल जरूरत से ज्यादा झड़ रहगे हैं तो कई बार इसके पीछे का कारण कोई बीमारी हो सकती है. चलिए बताते हैं आपको बाल झड़ने की बड़ी वजहों के बारे में…

झड़ते बालों को रोकने के लिए हम अक्सर तरह-तरह के ब्लूटी प्रोडक्ट्स और घरेलू नुस्खों को अपनाते हैं.लेकिन कई बार हमारे बाल सिर्फ देखभाल के अभाव में नहीं बल्कि कई बीमारियों के कारण भी झड़ते हैं.

फंगल इंफेक्शन-

फंगल इंफेक्शन के कारण भी आपके बाल तेजी से झड़के हैं. ऐसा होने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.इसमें इलाज के दौरान हाइजीन का भी ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है.

डिप्रेशन-

डिप्रेशन के कारण मोटापा, थायरॉयड और डायबिटीज जैसी बीमारियां तो परेशान करती ही हैं साथ ही बाल भी बहुत तेजी से झड़ते हैं. डिप्रेशन से यदि कोई व्यक्ति लंबे वक्त से जूझ रहा है तो ऐसे में बॉडी में जरूरी हॉर्मोन बन जाती है. इसका बुरा असर डायजेशन पर पड़ता है. इससे बालों को सही पोषण नहीं मिल पाता है जिसकी वजह से बाल झड़ने लगते है.

थायरॉयड-

यदि आपके बालों तेजी से झड़ रहे हैं तो इसके पीछे का कारण थायरॉयड भी हो सकता है. दरअसल थायरॉयड की समस्या बालों के झड़ने से शुरू होती है. गंभीर और काफी लंबे वक्त तक डाइपोथारायडिज्म और डाइपरथॉयरायडिज्म बालों के झड़ने का कारण बन सकती है. लेकिन इलाज के दौरान ये समस्या खुद ब खुद खत्म हो जाती है. हालांकि इसके लिए आपको कुछ महीनों का वक्त लगता है.

कैंसर-

कैंसर रोगियों में बाल झड़ना एक आम समस्या है. तेजी से बाल झड़ना कई बार इस ओर इशारा करते हैं. हालांकि कैंसर में मुख्य तौर पर कीमोथेरेपी लेने पर बाल तेजी से झड़ जाते हैं.

टाइफाइड-

टाइफाइड साल्मोनेला एन्टेरिका सेरोटाइप टाइफी बैक्टीरिया के कारण होती है. ये बैक्टीरिया पानी और खाने के जरिए लोगों के अंदर जाता है और इसके द्वारा बहुत से लोगों में फैल जाता है. टाइफाइड या वायरल इंफेक्शन के कारण भी बाल तेजी से झड़ते हैं.हालांकि इलाज के दौरान इस समस्या से निजात मिल जाता है.

 सीने में हल्के दर्द को गैस समझकर बिलकुल भी न करें नजरअंदाज, माइल्ड अटैक का हो सकता है खतरा!

First published: 7 February 2020, 11:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी